Home » बीकानेर:रात 9 बजे बाद दुकानें खुली मिली तो 72 घन्टे के लिए होंगी सीज होम आइसोलेशन का उल्लंघन करने वाले पॉजिटिव मरीजों के खिलाफ होगी एफआईआर जिला कलक्टर ने ली मीटिंग, कहा प्रभावी कोविड मैनेजमेंट सर्वोच्च प्राथमिकता
Covid-19 Rajasthan Gov news

बीकानेर:रात 9 बजे बाद दुकानें खुली मिली तो 72 घन्टे के लिए होंगी सीज होम आइसोलेशन का उल्लंघन करने वाले पॉजिटिव मरीजों के खिलाफ होगी एफआईआर जिला कलक्टर ने ली मीटिंग, कहा प्रभावी कोविड मैनेजमेंट सर्वोच्च प्राथमिकता

बीकानेर, 9 अप्रैल। कोरोना संक्रमण रोकथाम के मध्यनजर अब रात 9 बजे के बाद तक खुली दुकानों को 72 घन्टे तक के लिए सीज किया जाएगा। होम आइसोलेट कोरोना पॉजिटिव मरीजों द्वारा नियमों का उल्लंघन करने पर एफआईआर दर्ज करवाई जाएगी तथा ऐसे मरीजों को इंस्टिट्यूशनल आइसोलेट किया जाएगा। बाहरी राज्यों से आने वाले यात्रियों की स्क्रीनिंग के लिए रेलवे स्टेशन पर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ पुलिस के जवान भी मौजूद रहेंगे।
जिला कलक्टर नमित मेहता ने शुक्रवार को कोविड मैनेजमेंट से सम्बंधित बैठक में यह निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जॉइंट एन्फोर्समेंट टीमें अपनी कार्यवाही बढ़ाएं। रात 8.30 बजे से सभी टीमों द्वारा अपने-अपने क्षेत्रों में संयुक्त विजिट की जाए तथा कोविड गाइडलाइन की अवहेलना करने वालों के खिलाफ सख्त कार्यवाही हो। रात 9 बजे के बाद भी यदि कोई दुकान खुली मिलती है, तो उसे अधिकतम 72 घण्टों तक के लिए सीज किया जाए।
गाइडलाइन के अनुरूप जिले में कोई भी जिम ना खुले तथा शहरी क्षेत्र में नौंवी तक की कक्षाएँ भी संचालित नहीं हो, इसके लिए औचक कार्यवाही की जाए। प्रत्येक एरिया मजिस्ट्रेट द्वारा प्रतिदिन की जाने वाली कार्यवाही की जानकारी भी उपलब्ध करवानी होगी।
जिला कलक्टर ने कहा कि माइक्रो कन्टेन्टमेंट जोन में बेरिकेड्स लगाए जाएं। इन क्षेत्रों में होमगार्ड के जवानों को तैनात कर सूचना उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि होम आइसोलेट किए गए पॉजिटिव मरीजों को स्वास्थ्य विभाग की टीम प्रतिदिन सम्भाले। यदि कोई आइसोलेशन नियमों की अवहेलना करता है, तो उसके खिलाफ एफआईआर करवाई जाए। ऐसे मरीजों को इंस्टिट्यूशनल क्वारेन्टाइन किया जाएगा।
जिला कलक्टर ने डोर टू डोर सर्वे कार्य को पूर्ण गम्भीरता से करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि पीबीएम सहित सभी अस्पतालों में दवाइयां, इंजेक्शन, ऑक्सिजन की उपलब्धता को लेकर कोई इश्यू नहीं रहे। पीबीएम अधीक्षक को ऑक्सिजन की उपलब्धता, खपत और आवश्यकता से सम्बंधित रिपोर्ट उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए।
जिला कलक्टर ने कहा कि बाहरी राज्यों से आने वाली रेलगाड़ियों पर विशेष ध्यान दिया जाए। इन रेलों से आने वाले शत प्रतिशत लोगों की स्क्रीनिंग सुनिश्चित की जाए। इसके लिए प्रमुख गाड़ियों के आने के समय पुलिस के जवानों को तैनात करने के निर्देश दिए।

समन्वय में नहीं रहे कोई कमी
जिला कलक्टर ने कहा कि वर्तमान समय बेहद चुनौतीपूर्ण है। इसमें अधिकारियों-कर्मचारियों में आपसी समन्वय की कोई कमी नहीं रहे। प्रत्येक व्यवस्था के लिए जिम्मेदार वरिष्ठ अधिकारी प्रतिदिन अपने स्तर पर भी व्यवस्थाओं की समीक्षा करे। प्रभावी कोविड प्रबंधन हमारी सामूहिक जिम्मेदारी है। इसमें किसी स्तर पर लापरवाही सहन नहीं की जाएगी।
इस दौरान भारतीय प्रशासनिक सेवा के प्रशिक्षु अधिकारी कनिष्क कटारिया, अतिरिक्त कलक्टर (नगर) अरुण प्रकाश शर्मा, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ओम प्रकाश, अतिरिक्त कलक्टर (प्रशासन) बलदेव राम धोजक, नगर निगम आयुक्त ए एच गौरी, पीबीएम अधीक्षक डॉ परमिंदर सिरोही, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ सुकुमार कश्यप, डॉ. रंजन माथुर सहित सभी एरिया मजिस्ट्रेट और पुलिस अधिकारी मौजूद रहे।

About the author

THE INTERNAL NEWS

Add Comment

Click here to post a comment

CommentLuv badge

Topics

Translate »
error: Content is protected !!