Home » भारत सरकार ने 1 मई 2021 से राष्ट्रीय कोविड-19 टीकाकरण रणनीति के तृतीय चरण के तहत 18 वर्ष से ऊपर के सभी नागरिकों को टीका लगाने की घोषणा की है
Uncategorized

भारत सरकार ने 1 मई 2021 से राष्ट्रीय कोविड-19 टीकाकरण रणनीति के तृतीय चरण के तहत 18 वर्ष से ऊपर के सभी नागरिकों को टीका लगाने की घोषणा की है

भारत सरकार ने 1 मई 2021 से राष्ट्रीय कोविड-19 टीकाकरण रणनीति के तृतीय चरण के तहत 18 वर्ष से ऊपर के सभी नागरिकों को टीका लगाने की घोषणा की है ।
इसके तहत सरकार द्वारा रणनीति तय की गई है ।उसके अनुसार केंद्र अपने माध्यम से राज्य एवं संघ राज्य क्षेत्रों को टीके आवंटित करेगा। इसका उद्देश्य टीके का उदारीकरण करना है। इसके तहत वैक्सीन कवरेज का मूल्य निर्धारण और स्केलिंग किया जाएगा। वैक्सीन की खुराक का निर्धारण करने के लिए केंद्र सरकार उस राज्य में संक्रमण की सीमा तथा सक्रिय मामलों को भी ध्यान रखेगी ताकि वैक्सीन का अपव्यय ना हो तथा आवंटन प्रभावित ना हो। इसके साथ ही इन मानदंडों के आधार पर राज्यवार कोटा निर्धारित किया जाएगा तथा राज्यों को इसकी सूचना पहले से दे दी जाएगी ।इसके साथ ही वैक्सीन बनाने वाली कंपनियां अपने यहां निर्मित वैक्सीन का 50% माहवार भारत सरकार को उपलब्ध कराएगा तथा अन्य 50% राज्य सरकारों अथवा खुले बाजार में बेचने को स्वतंत्र होगा। निर्माताओं को 1 मई 2021 से पूर्व वैक्सीन का दाम राज्य एवं खुले बाजार हेतु बताना होगा। यदि निजी अस्पतालों द्वारा वैक्सीन के दाम में स्वयं संशोधन किया जाता है तो सरकारें उस पर नियंत्रण स्थापित कर सकेंगी ।भारत सरकार द्वारा जो वैक्सीनेशन सेंटर स्थापित किए गए हैं उसमें हेल्थ वर्कर तथा 45 साल से अधिक के लोगों को टीका उसी प्रकार लगेगा। जबकि टीकाकरण के लिए भारत सरकार के अतिरिक्त चैनलों हेतु 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों को टीका लगाया जा सकेगा। यह सभी वैक्सीनेशन सेंटर भारतीय वैक्सीनेशन प्रोग्राम का हिस्सा रहेंगे तथा कोविड प्लेटफार्म के अंतर्गत सभी नियमों और शर्तों को इन्हें मानना होगा। भारत में निर्मित वैक्सीन हेतु 50% की सप्लाई भारत सरकार के द्वारा तथा अन्य 50% की सप्लाई समानता के नियम पर आधारित करनी होगी ।1 मई 2021 से प्रभावी होने वाली इस नीति को सरकार द्वारा समय-समय पर विश्लेषण भी किया जाएगा।
उल्लेखनीय है कि इस नीति का उद्देश्य वैक्सीन निर्माताओं को अपने उत्पादन को और तेजी से बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करना है। साथ ही नए निर्माताओं को भी आकर्षित करना इसका मूल उद्देश्य है ।वर्तमान में भारत में निर्मित स्वदेशी टीके लगाए जा रहे हैं तथा एक ऐसी एक वैक्सीन जो कि विदेश में निर्मित है उसका निर्माण भी भारत में करवाने की योजना है।
राष्ट्रीय कोविड-19 टीकाकरण नीति के प्रथम चरण का शुभारंभ 16 जनवरी 2021 से हो चुका है जिसमें हेल्थ केयर वर्कर को तथा फ्रंटलाइन वर्कर्स को ध्यान में रखते हुए टीकाकरण प्रारंभ कर दिया था बाद में द्वितीय चरण की शुरुआत 1 मार्च 2021 से हुई थी।

Topics

Translate »
error: Content is protected !!