Home » राजस्थान गैस लि. राज्य के 9 जिलों में पीएनजी कार्य के लिए बीडिंग में लेगी हिस्सा
Uncategorized

राजस्थान गैस लि. राज्य के 9 जिलों में पीएनजी कार्य के लिए बीडिंग में लेगी हिस्सा

जयपुर, 5 मई। राजस्थान स्टेट गैस राज्य के 9 जिलाें में पाइप लाईन से गैस वितरण कार्य के लिए होने वाली बीडिंग में हिस्सा लेंगी। माइंस एवं पेट्रोलियम विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव व चेयरमेन आरएसजीएल डॉ. सुबोध अग्रवाल ने यह निर्देश बुधवार को सचिवालय में आयोजित समीक्षा बैठक में दिए। उन्होंने बताया कि केन्द्र सरकार के पेट्रोल एवं नेचुरल गैस नियामक बोर्ड द्वारा जल्दी ही पाइप लाईन के माध्यम से घरेलू गैस वितरण के लिए राजस्थान सहित देश के कई शहरों के लिए बीडिंग करने जा रही है।

एसीएस डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया कि इस समय राज्य के 19 जिलों में पाइप लाईन से गैस वितरण कार्य के लिए अलग अलग संंस्थाएं काम कर रही है। इन संस्थाओं से समन्वय और प्रगती की समीक्षा राज्य स्तर पर की जाएगी ताकि पीएनजी कार्य को गति दी जा सके। उन्होंने बताया कि राज्य के कोटा शहर और मध्यप्रदेश के ग्वालियर व श्योपुर में गैस पाइप लाईन से गैस वितरण का कार्य राजस्थान गैस द्वारा किया जा रहा है।

डॉ. अग्रवाल ने बताया कि राज्य के शेष 14 जिलों में सेनिर्धारित भौगोलिक क्षेत्रों में राजस्थान के बीकानेर और चुरु, झुन्झुनू, सीकर, नागौर, दौसा, करौली, सवाई माधोपुर और टोंक के लिए पीएनजीआरबी द्वारा बिडिंग होगी जिसमें आरएसजीएल द्वारा हिस्सा लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि पाइप लाईन से घरेलू गैस वितरण सस्ती, 24 घंटें गैस की उपलब्धता और बुकिंग कराने की झंझट से मुक्ति दिलाने वाली है। इसके साथ ही ग्रीन एनर्जी का माध्यम है।

डॉ. अग्रवालने बताया कि पाइप लाईन से वितरित गैस घरेलू गैस सिलेण्डर से भी 42 प्रतिशत सस्ती है। इसी तरह से पीएनजी से वाहनों के लिए उपलब्ध गैस सस्ती है। उन्होंने बताया कि कोटा में पाइपलाईन से घरेलू गैस वितरण का कार्य तेजी से जारी है।
आरएसजीएल के एमडी श्री मोहन सिंह ने बताया किआरएसजीएल द्वारा कोटा शहर में युद्ध स्तर पर शहरी गैस वितरण नेटवर्क विकसित करते हुए 7 सीएनजी स्टेशनों की स्थापना की जा चुकी है।आगामी एक माह में कोटा में तीन नए सीएनजी स्टेशन तैयार कर दिए जाएंगे।

प्रबंध संचालक श्री मोहन सिंह ने बताया कि कोटा के साथ हीआरएसजीएल द्वारा मध्यप्रदेश के ग्वालियर और श्योपुर में भी शहरी गैस वितरण व्यवस्था का नेटवर्क विकसित करने का काम जारी है। दोनों ही स्थानों पर एक-एक सीएनजी स्टेशन स्थापित किए जा चुके हैं।

बैठक में उपसचिव नीतू बारुपाल व आरएसजीएल के श्री दीप्तांशु पारीक और श्री गगनदीप राजोरिया ने हिस्सा लिया।

Topics

Translate »
error: Content is protected !!