Home » टीम भावना’ से काम करें अधिकारी, मरीजों के इलाज में संसाधनों की नहीं आने दी जाएगी कमी’ ’जिला प्रभारी मंत्री श्री गोविंद सिंह डोटासरा ने ली कोविड प्रबंधन से संबंधित बैठक’ ’उच्च शिक्षा मंत्री श्री भंवर सिंह भाटी रहे मौजूद’।
Covid-19

टीम भावना’ से काम करें अधिकारी, मरीजों के इलाज में संसाधनों की नहीं आने दी जाएगी कमी’ ’जिला प्रभारी मंत्री श्री गोविंद सिंह डोटासरा ने ली कोविड प्रबंधन से संबंधित बैठक’ ’उच्च शिक्षा मंत्री श्री भंवर सिंह भाटी रहे मौजूद’।


बीकानेर, 13 मई। प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), पर्यटन एवं देवस्थान राज्य मंत्री तथा जिला प्रभारी मंत्री श्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि कोविड संक्रमण की दूसरी लहर से निपटने के लिए सभी अधिकारी अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए ‘टीम भावना’ के साथ काम करें। मरीजों के इलाज के लिए राज्य सरकार द्वारा धन और संसाधनों की कोई कमी नहीं आने दी जाएगी। उन्होंने कहा कि वर्तमान परिस्थितियों के मद्देनजर अधिकारियों द्वारा किसी स्तर पर ढिलाई नहीं बरती जाए।
श्री डोटासरा शुक्रवार को कलक्ट्रेट सभागार में जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ कोविड प्रबंधन से संबंधित बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने कोविड अस्पताल, जिला अस्पताल सहित सीएचसी, पीएचसी तथा उप स्वास्थ्य केन्द्र स्तर पर की गई व्यवस्थाओं की समीक्षा की तथा कहा कि प्रत्येक स्थान पर आवश्यक दवाइयां, बैड एवं सभी संसाधन उपलब्ध रहें। वरिष्ठ चिकित्सक व्यवस्थाओं पर नियमित नजर रखें तथा यह सुनिश्चित करें कि मरीजों को बेवजह कोई परेशानी नहीं हो। उन्होंने ग्राम पंचायत स्तर पर स्थापित किए जा रहे क्वारेंटीन सेंटरों में भी सभी व्यवस्थाएं चाक-चैबंद रखने के निर्देश दिए।
प्रभारी मंत्री ने आॅक्सीजन की आवश्यकता, उपलब्धता और वितरण की समीक्षा की तथा कहा कि मरीजों की आवश्यकता के अनुरूप आॅक्सीजन उपलब्ध करवाने में किसी प्रकार की कमी नहीं आने दी जाएगी। चिकित्सक भी यह सुनिश्चित करें कि आॅक्सीजन का अपव्यय नहीं हो। उन्होंने डीएमएफटी फंड से एक बड़ा आॅक्सीजन जनरेशन प्लांट स्थापित करने की संभावनाओं पर चर्चा की। साथ ही विधायकों, सीएसआर और अन्य भामाशाहों द्वारा दी जा रही सहायता के बारे में भी जाना। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र स्तर तक आवश्यक मात्रा में आॅक्सीजन उपलब्ध रखने के निर्देश दिए। उन्होंने जिले में मेडिकल स्टाफ नियुक्ति की समीक्षा की तथा ‘अर्जेंट टेम्परेरी बेसिस’ पर नियमानुसार नियुक्ति के निर्देश दिए।
श्री डोटासरा ने कहा कि जिले में कोविड मरीजों के इलाज के लिए अधिकृत छह अस्पतालों की माॅनिटरिंग के लिए एक-एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी नियुक्त किया जाए। यह अधिकारी सुनिश्चित करें कि यहां भर्ती मरीजों से नियमानुसार शुल्क वसूला जाए तथा बेहतर इलाज हो। साथ ही इन अस्पतालों में कोविड एप्रोप्रिएट बिहेवियर की पालना हो। उन्होंने डोर-टू-डोर सर्वे को और अधिक प्रभावी तरीके से करने के निर्देश दिए तथा कहा कि इसकी नियमित समीक्षा की जाए। सर्वे के दौरान वितरित की जाने वाली आवश्यक दवाइयों की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।
प्रभारी मंत्री ने कहा कि जिले में लंबित एग्रीकल्चरल विद्युत कनेक्शन, फसलों की आवश्यकता के मुताबिक प्राथमिकता से किए जाएं। यदि सामान की अनुपलब्धता के कारण कनेक्शन लंबित हैं, तो उच्च अधिकारियों को इससे अवगत करवाया जाए। उन्होंने नहरबंदी के दौरान पेयजल वितरण की समीक्षा की तथा कहा कि इस दौरान किसी भी क्षेत्र में पेयजल के परेशानी नहीं हो, इसके मद्देनजर विभागीय अधिकारी पूर्ण गंभीरता से काम करें। उन्होंने कहा कि जिले में पेयजल और विद्युत विभाग से संबंधित स्वीकृत, लंबित एवं पूर्ण कार्यों की सूची उपलब्ध करवाई जाए।
श्री डोटासरा ने कहा कि जनप्रतिनिधियों के साथ आयोजित बैठकों में अधिकारी पूर्ण तैयारी के साथ आएं। अधिकारियों को पिछली बैठकों के निर्देशों की जानकारी हो तथा कार्य प्रगति से जनप्रतिनिधियों को सूचित किया जाए। विद्युत निगम और जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के अधीक्षण अभियंता द्वारा इस संबंध में जानकारी उपलब्ध नहीं करवाए जाने को उन्होंने गंभीरता से लिया तथा दोनों अधिकारियों के खिलाफ नोटिस जारी करते हुए उच्च अधिकारियों को इससे अवगत करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि बिजली-पानी की निर्बाध आपूर्ति सरकार की प्राथमिकताओं में है।
उच्च शिक्षा मंत्री श्री भंवर सिंह भाटी ने कहा कि सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र स्तर पर सभी व्यवस्थाएं माकूल रखी जाएं। दूरस्थ क्षेत्रों के गांव, जहां नहरबंदी के दौरान पेयजल उपलब्ध नहीं हो पा रहा है, वहां टैंकरों के माध्यम से पानी पहुंचाया जाए। उन्होंने कहा कि कोविड 19 प्रबंधन के तहत विधायक स्थानीय विकास मद के तहत स्वीकृत कार्य अतिशीघ्र पूर्ण हों, जिससे मरीजों को इनका त्वरित लाभ मिल सके। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा कोविड प्रबंधन के मद्देनजर बेहतर कार्य किया जा रहा है। निचले स्तर तक इसके प्रभावी क्रियान्वयन की जिम्मेदारी अधिकारियों की है। अधिकारी इस भावना के अनुरूप काम करें।
खाजूवाला विधायक श्री गोविंद राम मेघवाल ने कहा कि नहरबंदी के मद्देनजर दूरस्थ क्षेत्रों में पेयजल उपलब्ध करवाने के लिए विभागीय अधिकारी आपसी समन्वय से कार्य करें। प्रत्येक कार्य से जनप्रतिनिधियों को अवगत करवाया जाए। इस दौरान बीकानेर पूर्व विधानसभा क्षेत्र विधायक सुश्री सिद्धि कुमारी, नोखा विधायक श्री बिहारी लाल बिश्नोई, लूणकरणसर विधायक श्री सुमित गोदारा, श्रीडूंगरगढ़ विधायक श्री गिरधारी लाल महिया, महापौर श्रीमती सुशीला कंवर राजपुरोहित मौजूद रहे।

जिला कलक्टर श्री नमित मेहता ने कोविड प्रबंधन के तहत किए जा रहे कार्यों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पर्याप्त आॅक्सीजन के बेहतर उपयोग पर नजर रखी जा रही है। पीबीएम द्वारा तीन सौ और सीएमएचओ द्वारा दो सौ नए आॅक्सीजन कंसंट्रेटर खरीदे जा रहे हैं। उन्होंने लाॅकडाउन के दौरान गाइडलाइन की अनुपालना के बारे में भी जानकारी दी। इस दौरान पुलिस अधीक्षक प्रीति चंद्रा, शिक्षा निदेशक सौरभ स्वामी सहित जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे।

About the author

THE INTERNAL NEWS

Add Comment

Click here to post a comment

CommentLuv badge

Topics

Translate »
error: Content is protected !!