Home » एस रंधावाराज प्रोडक्शन द्वारा राजस्थान गौरव रत्न सम्मान हेतु प्रविष्टियां आमंत्रित
ARTICLE : social / political / economical / women empowerment / literary / contemporary Etc .

एस रंधावाराज प्रोडक्शन द्वारा राजस्थान गौरव रत्न सम्मान हेतु प्रविष्टियां आमंत्रित


एसरंधावाराज प्रोडक्शन द्वारा राजस्थान गौरव रत्न सम्मान हेतु प्रविष्टियां आमंत्रित की गई हैं। संस्था की संचालिका व समाजसेविका शिंपी रंधावा ने बताया कि एसरंधावाराज प्रोडक्शन 2018 से लगातार सामाजिक हित में, पर्यावरण हित में, और पशु -पक्षियों के हित में कार्य करता आ रहा है। साथ ही समाज में अच्छे कार्य करने वालों को हमेशा सम्मानित भी करता आया हैं।
साल 2020 में जहां करोना जैसी वैश्विक महामारी ने पूरे विश्व को झकझोर कर रख दिया, उस दौरान संस्था द्वारा दिन-रात जरूरतमंद लोगों को भोजन के पैकेट,सुखा राशन, फल व सब्जियां वितरित की गई साथ ही पशु-पक्षियों के लिए भी चारे पानी की व्यवस्था की गई। हमारे समाज के कुछ योद्धाओं ने भी इस महामारी को मुंह तोड़ जवाब देते हुए लोगों की सेवा में बढ़-चढ़कर अपना सहयोग दिया। ऐसे योद्धाओं के जज्बे को देखते हुए व उनकी हौसला अफजाई के लिए एसरंधावाराज प्रोडक्शन ने करोनाकाल में करोना योद्धाओं को सम्मानित करने के लिए उन्हें “कर्म योद्धा” प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया और उनका हौसला अफजाई की ताकि वह समाज में ओर दुगने उत्साह के साथ कार्य कर सके। उसी कड़ी में इस वर्ष भी एसरंधावाराज प्रोडक्शन करोना योद्धाओं को “कर्म योद्धा” प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित कर रहा हैं।
संचालिका शिंपी रंधावा ने आगे जानकारी देते हुए बताया है कि संस्था द्वारा “राजस्थान गौरव रत्न सम्मान समारोह” के माध्यम से देशभर में अलग-अलग क्षेत्रों में कार्य कर रहे महान हस्तियों को सम्मानित करता आया हैं और करता रहेगा साथ ही “द ट्री ऑफ लाइफ” (सेव ट्री सेव अर्थ) के तहत अभी तक संस्था 2000 निशुल्क पौध वितरण व प्रशस्ति पत्र का कार्यक्रम भी कर चुकी हैं।
राजस्थान में “गौरव रत्न सम्मान समारोह” के लिए नॉमिनेशन की प्रक्रिया अभी खुली हैं। आवेदन करने के लिए निम्न ईमेल पर अपने प्रोफाइल भेज सकते हैं.. shimpyrandhawa03@gmail.com
अधिक जानकारी के लिए 9571324436पर संपर्क कर सकते हैं।

About the author

THE INTERNAL NEWS

Add Comment

Click here to post a comment

CommentLuv badge

Topics

Translate »
error: Content is protected !!