Home » नए CBI चीफ सुबोध जायसवाल की छवि Low Profile-High output वाली
ARTICLE : social / political / economical / women empowerment / literary / contemporary Etc . CENTRAL BUREAU OF INVESTIGATION

नए CBI चीफ सुबोध जायसवाल की छवि Low Profile-High output वाली


जायसवाल की कार्यप्रणाली के चर्चे आम, अनेक चर्चित मामलों की जांच की, तेलगी फर्जी स्टाम्प घोटाले की जांच की SIT के चीफ थे सुबोध तब के गृह मंत्री छगन भुजबल ने बनाया था एसआईटी चीफ ,सीबीआई जांच के बाद खुद भुजबल को जाना पड़ा था जेल , मुंबई पुलिस चीफ आर एस शर्मा सहित अन्य पुलिस अफसरों का भी जांच में आया नाम, ऐसे में खिलाफ हो गए थे पुलिस अफसर भी तेलगी, मालेगांव ब्लास्ट, भीमा कोरेगांव, एल्गार परिषद मामले की जांच की जायसवाल ने ,एन एस ए अजीत डोभाल के पसंदीदा अधिकारी माने जाते सुबोध जायसवाल रॉ ,आईबी व सीआईएसएफ मैं भी किया काम सीबीआई चीफ बनने वाले महाराष्ट्र से तीसरे अधिकारी ,सुबोध से पहले जॉन लोबो व मोहन कात्रे बन चुके सीबीआई चीफ
नए CBI चीफ के बारे में चर्चित पुलिस अफसर जेएफ रिबेरो का आकलन एवं सलाह
CBI चीफ सुबोध जायसवाल का विचित्र संयोग, जिस गृह मंत्री के कारण छोड़ा था महाराष्ट्र DGP का पद, उसी गृह मंत्री अनिल देशमुख के मामले की जांच करेंगे जायसवाल ,देशमुख पर है पुलिस अधिकारी के जरिए धन वसूली करने के आरोप ,जायसवाल के सामने चुनौती नेता, पुलिस ,अपराधियों के नापाक गठजोड़ का भंडाफोड़, महाराष्ट्र में फडणवीस सरकार के समय डीजीपी बने थे जायसवाल, उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में बनी एमवीए सरकार तब भी बने रहे जायसवाल डीजीपी, IPS व अन्य पुलिस अफसरों की योग्यता के आधार पर तबादलों के मामले पर अड़े, गृहमंत्री देशमुख और सरकार ने उन को दरकिनार कर किए तबादले, इसी से नाराज होकर जायसवाल चले गए दिल्ली में सीआईएसएफ के डीजी बनकर
नए CBI चीफ के बारे में चर्चित पुलिस अफसर जेएफ रिबेरो का आकलन एवं सलाह
CBI चीफ सुबोध जायसवाल ‘पिंजरे में बंद तोते’ को कर देंगे ‘आजाद’ !, कहा-‘जायसवाल ईमानदार, सत्यनिष्ठ, सिद्धांतवादी और फोर्स में लोकप्रिय अधिकारी कोई शक नहीं कि सीबीआई में अपने नए अवतार में भी ऐसे बने रहेंगे , उन पर सीबीआई की संवेदनशील जांचों में फंसे नेताओं के आएंगे दबाव, तुनक मिजाज नेताओं के अहम को शांत करने की भी होगी चुनौती, सीबीआई के राजनीतिक दुरुपयोग को रोकने की चुनौती, इंदिरा गांधी की तरह नरेंद्र मोदी को भी ना सुनने की आदत नहीं ,ऐसे में करना होगा 70 के दशक के सीबीआई चीफ जॉन लोबो की तरह काम, उन्होंने इंदिरा गांधी को भी प्रभावित कर तार्किक निर्णय करवाएं, सत्ता के ठेकेदारों से सहमत होकर भी अपना काम करने की चुनौती, रिबेरो मैं जायसवाल का बढ़ाया हौसला कहा- अनुचित काम नहीं करने पर डरने की जरूरत नहीं 2 साल तक सीबीआई चीफ पद से कोई नहीं हटा सकताा


REPORT BY : SAHIL PATHAN

Topics

Translate »
error: Content is protected !!