Rajasthan Gov news

मोनू मानेसर हरियाणा में गिरफ्तार, राजस्थान पुलिस को सौंपा:नासिर-जुनैद को जिंदा जलाने के केस में ट्रांजिट रिमांड पर लिया; नूंह हिंसा में पकड़ा था

मोनू मानेसर हरियाणा में गिरफ्तार, राजस्थान पुलिस को सौंपा:नासिर-जुनैद को जिंदा जलाने के केस में ट्रांजिट रिमांड पर लिया; नूंह हिंसा में पकड़ा था

चंडीगढ़

मोनू मानेसर को कड़ी सुरक्षा में हरियाणा पुलिस ने नूंह कोर्ट में पेश किया गया था। - Dainik Bhaskar

मोनू मानेसर को कड़ी सुरक्षा में हरियाणा पुलिस ने नूंह कोर्ट में पेश किया गया था।

हरियाणा पुलिस ने मोनू मानेसर को गिरफ्तार कर लिया है। मोनू पर 31 जुलाई को नूंह में हुई हिंसा से पहले भड़काऊ सोशल मीडिया पोस्ट डालने का केस है। नूंह पुलिस की साइबर क्राइम ब्रांच ने उसे गुरुग्राम से गिरफ्तार किया। मोनू को उसी के गांव मानेसर की मार्केट से पकड़ा गया

मोनू को गिरफ्तारी के बाद नूंह कोर्ट में पेश किया गया। जहां पुलिस ने उसका रिमांड मांगा, मगर कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भौंडसी जेल भेज दिया।

मोनू मानेसर पर भिवानी में हुए राजस्थान के नासिर-जुनैद हत्याकांड में शामिल होने का आरोप है। इस केस में वह पिछले 8 महीने से फरार था। मोनू की गिरफ्तारी का पता चलते ही राजस्थान पुलिस भी कोर्ट पहुंच गई।

मोनू को जेल छोड़ने पहले ही राजस्थान पुलिस को उसका ट्रांजिट रिमांड मिल गया। इसके बाद हरियाणा पुलिस ने उसे राजस्थान पुलिस के हवाले कर दिया। उसे लेकर राजस्थान पुलिस रवाना हो गई है।

गिरफ्तारी के बाद साइबर क्राइम पुलिस थाने में जमीन पर बैठा मोनू मानेसर।

गिरफ्तारी के बाद साइबर क्राइम पुलिस थाने में जमीन पर बैठा मोनू मानेसर।

सोशल मीडिया पोस्ट केस में हुई मोनू की गिरफ्तारी
मोनू मानेसर के नाम से 26 अगस्त को एक पोस्ट डाली गई थी। जिसमें लिखा था-”परिणाम की चिंता हम नहीं करते, वार एक ही होगा, पर आखिर होगा…। Monumanesar”। सोशल मीडिया सैल के सिपाही मनोज कुमार ने नूंह साइबर क्राइम थाने में इसकी शिकायत दी। साइबर पुलिस ने इसकी जांच की तो पता चला कि यह पोस्ट मोनू मानेसर नाम के अकाउंट से डाली गई।

पुलिस के मुताबिक इस अकाउंट होल्डर ने धर्म के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच शत्रुता फैलाई। अभद्र शब्दों का प्रयोग किया। धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाई। लोक शांति भंग की। पुलिस ने इसकी जांच की तो पता चला कि मोनू मानेसर उर्फ मोहित यादव के नाम पर चल रहे मोबाइल नंबर से ही यह पोस्ट डाली गई। इसके बाद उसके खिलाफ धारा 153, 153A, 295A, 504, 109 IPC और आर्म्स एक्ट के तहत केस दर्ज कर लिया गया।

गिरफ्तारी के वक्त मोनू से 2 सिम कार्ड वाला मोबाइल और 45 बोर की पिस्टल, 3 कारतूस बरामद किए गए।

मोनू मानेसर को गुरुग्राम मार्केट से गिरफ्तार कर ले जाती हरियाणा पुलिस।

मोनू मानेसर को गुरुग्राम मार्केट से गिरफ्तार कर ले जाती हरियाणा पुलिस।

मोनू मानेसर के 2 वीडियो सामने आए थे
नूंह में 31 जुलाई को ब्रजमंडल यात्रा के दौरान हुई हिंसा से पहले 2 वीडियो वायरल हुए थे। पहले वीडियो में मोनू मानेसर ने कहा था कि 31 जुलाई को वह ब्रजमंडल यात्रा में शामिल होगा। उसने लोगों को भी इस यात्रा में शामिल होने की अपील की थी। इसके बाद नूंह से भी दूसरे समुदाय से मोनू मानेसर को सोशल मीडिया पर चैलेंज करने किया गया था।

इसके बाद मोनू मानेसर का एक और वीडियो सामने आया था। जिसमें कहा गया कि बोला है तो आना ही पड़ेगा। कथित तौर पर इसी से दंगाइयों को शक हुआ कि मोनू यात्रा में आया हुआ है।

मोनू मानेसर की रिहाई के लिए प्रदर्शन, गुरुग्राम में महापंचायत बुलाई
मोनू मानेसर की गिरफ्तारी का पता चलते ही उसके समर्थकों ने गुरुग्राम में प्रदर्शन किया। वहीं विश्व हिंदू परिषद ने पंचायत बुलाकर करने और बड़ा फैसला लेने की चेतावनी दी है। गांव मानेसर के ग्रामीणों ने भी इसे राजनीतिक साजिश बता आंदोलन की बात कही है। VHP के जिला संयोजक देविंदर सिंह ने कहा कि नूंह पुलिस ने कांग्रेस MLA मामन खान को तो गिरफ्तार नहीं किया, बल्कि मोनू को अरेस्ट कर लिया।

मोनू मानेसर की गिरफ्तारी के बाद गुरुग्राम पुलिस के पास इनपुट्स यह भी है कि नाराज और गुस्साए मानेसर और आसपास के ग्रामीण नेशनल हाईवे- 48 को जाम कर सकते है। जिसके बाद एहतियात के तौर पर भीष्म मंदिर के पास भारी पुलिस बल तैनात किया गया है।

मोनू की रिहाई के लिए गुरुग्राम में प्रदर्शन करते उसके समर्थक।

मोनू की रिहाई के लिए गुरुग्राम में प्रदर्शन करते उसके समर्थक।

राजस्थान का नासिर-जुनैद हत्याकांड, जिसमें मोनू आरोपी

फरवरी में मिली थी नासिर-जुनैद की जली लाशें
16 फरवरी 2023 को हरियाणा के भिवानी में बोलेरो गाड़ी में दो जली हुई लाशें मिलीं थीं। जांच में पता चला था कि ये लाशें राजस्थान के भरतपुर जिले के घाटमिका गांव के जुनैद और नासिर की थीं। हरियाणा के कई गो-रक्षकों पर उन्हें जिंदा जलाने का आरोप लगा था। इनमें सबसे चर्चित नाम मोनू मानेसर उर्फ मोहित यादव का था।

राजस्थान के जिला भरतपुर के पहाड़ी इलाके के गांव घाटमीका निवासी नासिर (28) और जुनैद (33) को 15 फरवरी को किडनैप किया गया था। अगले दिन हरियाणा के भिवानी में बोलेरो में दोनों के कंकाल बरामद हुए थे। इस मामले में दोनों के परिवार ने बजरंग दल से जुड़े गोरक्षक मोनू मानेसर और उसके साथियों पर मारपीट के बाद दोनों को जिंदा जलाकर मार देने का आरोप लगाया था।

इसके बाद भरतपुर थाना पुलिस ने मोनू मानेसर सहित अन्य लोगों पर विभिन्न धाराओं में केस भी दर्ज किया था। पुलिस इस केस में फरार 8 आरोपियों की फोटो भी जारी कर चुकी है।

हरियाणा पुलिस से संपर्क में राजस्थान पुलिस
भरतपुर के SP मृदुल कछावा का कहना है हमें जानकारी मिली है कि हरियाणा पुलिस ने मोनू मानेसर को हिरासत में लिया है, जिसकी नासिर-जुनैद (लिंचिंग) केस में तलाश थी। हरियाणा पुलिस अपनी आगे की प्रक्रिया कर रही है और हमारे अधिकारी उनके संपर्क में हैं। जब उनकी प्रक्रिया पूरी हो जाएगी, तब हमारी (जिला पुलिस) प्रक्रिया शुरू होगी।

नासिर-जुनैद हत्याकांड की पूरी कहानी

भाई की ससुराल से लौट रहे थे, बीच रास्ते में रोक लिया
जुनैद के चचेरे भाई इस्माइल ने आरोप लगाया था कि जुनैद और नासिर 14 फरवरी को भोरूबास सिकरी गांव गए थे। यहां उनके भाई की ससुराल है। रात में वहीं रुक गए थे। बुधवार सुबह यानी 15 फरवरी को दोनों घर आ रहे थे।

रास्ते में उनको बजरंग दल वालों ने रोक लिया। इनका नाम पूछा। इसके बाद दोनों को बोलेरो से खींचकर बाहर निकालने की कोशिश की गई। नासिर-जुनैद ने जैसे ही देखा कि उन्हें ये खींच रहे है, तो जान बचाने के लिए उन्होंने अपनी बोलेरो गाड़ी को भगा दिया।

बोलेरो का पीछा कर दोनों तरफ से टक्कर मारी गई
परिवार का आरोप था कि जुनैद-नासिर को बोलेरो से जान बचाकर भागते देख आगे-पीछे से टक्कर मारी गई। इसके बाद दोनों को गाड़ी से निकालकर मारपीट की गई। मारपीट के बाद बजरंग दल वाले नासिर-जुनैद को पुलिस थाना फिरोजपुर झिरका ले गए। जहां पर दोनों को पुलिस को सौंपने की कोशिश की, लेकिन दोनों की हालत इस कदर खराब हो गई थी कि पुलिस ने दोनों को रखने से मना कर दिया।

जिंदा जलाकर मार दिया
परिवार का कहना था कि पुलिस के हिरासत में लेने से इनकार करने के बाद बजरंग दल के नेता मोनू मानेसर, रिंकू सैनी के अलावा 7 से 8 अन्य लोग दोनों को भिवानी ले गए। वहां उन्हें पिछली सीट पर बैठाकर बोलेरो समेत जिंदा जलाकर मार डाला। हमें सोशल मीडिया पर चली खबर के बाद दोनों की मौत का पता चला। गाड़ी के इंजन और चेसिस नंबर से पता चला कि ये हमारी गाड़ी है। मरने वाले हमारे दोनों भाई हैं।

राजस्थान पुलिस ने इस मामले में पहले इन 8 आरोपियों की फोटो जारी की थी। जिसके बाद कहा गया कि मोनू मानेसर आरोपी नहीं है। हालांकि बाद में राजस्थान पुलिस ने कहा कि मोनू भी जांच के दायरे में है।

नासिर-जुनैद मर्डर केस में अब तक क्या हुआ
जुनैद के चचेरे भाई इस्माइल ने 15 फरवरी को गोपालगढ़ थाना (भरतपुर) में दोनों के किडनैप और मारपीट का मामला दर्ज कराया था। इसमें अनिल निवासी मूलथान, श्रीकांत निवासी मरोड़ा, रिंकू सैनी निवासी फिरोजपुर झिरका, लोकेश सिंगला निवासी मानेसर (हरियाणा) पर आरोप लगाए गए थे।

इस FIR के अगले दिन 16 फरवरी को जुनैद और नासिर दोनों की लाशें हरियाणा में भिवानी जिले के लोहारू में जली हुई हालत में बोलेरो गाड़ी में मिली थीं। इस मामले में भरतपुर थाना पुलिस ने किडनैप और हत्या का मामला दर्ज किया था।

राजस्थान पुलिस ने मुख्य आरोपी रिंकू सैनी को गिरफ्तार कर लिया था। रिंकू सैनी से पूछताछ के आधार पर 8 आरोपियों के नाम फोटो सहित जारी किए। सभी 8 आरोपियों पर 10-10 हजार का इनाम भी रखा गया। इसके बाद इनमें से दो आरोपियों गोगी निवासी भिवानी और मोनू राणा निवासी पलुवास भिवानी को भी गिरफ्तार कर लिया गया था।

गोपालगढ़ पुलिस ने 16 मई को गिरफ्तार 3 आरोपियों रिंकू सैनी, गोगी और मोनू राणा के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट पेश की, तब इस बात का खुलासा हुआ कि नासिर और जुनैद की हत्या में अभी 27 आरोपियों के खिलाफ इन्वेस्टिगेशन पेंडिंग है।

जुनैद-नासिर हत्याकांड में शामिल आरोपी।

जुनैद-नासिर हत्याकांड में शामिल आरोपी।

चार्जशीट में मोहित उर्फ मोनू मानेसर, श्रीकांत मरोड़ा, अनिल मूलथान, लोकेश सिंगला, विकास आर्य, विशाल जेवली उर्फ नटवर, कालू उर्फ कृष्ण, बादल, शशिकांत, देवी लाल, भोलू, नवनीत, संजय परमार, दीपक, आजाद आचार्य, किशोर सैन, शिवम, तुषार उर्फ तन्नू, राजवीर, मनोज गुहाना, योगेन्द्र आचार्य, भोला सिलानी, रमेश उर्फ मेस्सा सिसर, आशु जांगडा, सुखविंद्र उर्फ सुक्खी, प्रवेश बॉक्सर और रविंद्र उर्फ कालिया की संलिप्तता बताते हुए जांच पेंडिंग रखने की बात थी। ये सभी हरियाणा के रहने वाले हैं।

मोनू मानेसर ने कहा था- इससे मेरा लेना-देना नहीं
फरवरी में हुए राजस्थान के भरतपुर निवासी नासिर-जुनैद हत्याकांड को लेकर मोनू मानेसर ने कहा कि मेरा इस केस से कोई लेना-देना नहीं है, क्योंकि मैं उस दिन मेवात या राजस्थान या फिर भिवानी किसी जगह नहीं था। इसके मेरे पास सबूत है क्योंकि उस दिन मैं गुरुग्राम के एक होटल में था। मेरा तो नाम बेवजह घसीट दिया गया।

मोनू मानेसर ने सोशल मीडिया पर भी लिखा कि इस घटना से उसकी टीम का कोई लेना-देना नहीं है। न ही बजरंग दल हरियाणा का कोई संबंध है। जो भी आरोपी मिलें, पुलिस उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करे।

भिवानी में जली मिली बोलेरो गाड़ी, इसी के अंदर से नासिर-जुनैद के कंकाल बरामद हुए थे।

भिवानी में जली मिली बोलेरो गाड़ी, इसी के अंदर से नासिर-जुनैद के कंकाल बरामद हुए थे।

About the author

THE INTERNAL NEWS

Add Comment

Click here to post a comment

CommentLuv badge

Topics

Translate:

Google News
Translate »