National News

अयोध्या में भगवान राम के लिए कमल-आसन तैयार:गर्भगृह का काम पूरा; प्राण-प्रतिष्ठा से पहले झांकी निकलेगी

TIN NETWORK
TIN NETWORK

अयोध्या में भगवान राम के लिए कमल-आसन तैयार:गर्भगृह का काम पूरा; प्राण-प्रतिष्ठा से पहले झांकी निकलेगी

अयोध्या

श्रीराम मंदिर में प्राण-प्रतिष्ठा समारोह के लिए धर्माचार्याें, कलाकारों, खिलाड़ियों समेत कई VVIP को न्योता भेजा जा चुका है। - Dainik Bhaskar

श्रीराम मंदिर में प्राण-प्रतिष्ठा समारोह के लिए धर्माचार्याें, कलाकारों, खिलाड़ियों समेत कई VVIP को न्योता भेजा जा चुका है।

अयोध्या में बन रहे राम मंदिर के गर्भगृह की फिनिशिंग और लाइट फिटिंग का काम पूरा हो गया है, जिसके बाद श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव चंपत राय ने शनिवार (9 दिसंबर) को गर्भगृह की दो तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर कीं।

इधर, रामलला की प्राण-प्रतिष्ठा से पहले अयोध्या में भगवान राम की झांकी निकाली जाएगी। इसे तैयार करने का काम तेजी से चल रहा है। इसमें भगवान राम के जन्म से लेकर वनवास और लंका जाने की कहानियां शामिल की गई हैं।

मंदिर ट्रस्‍ट के ट्रस्‍टी डॉ. अनिल मिश्र के मुताबिक संगमरमर से बने कमल के फूल के आसन पर रामलला का सिंहासन रखा जाएगा, वह भी गर्भगृह में स्थापित कर दिया गया है।

पृथ्वी और सूर्य के आधार पर तय होगी सिंहासन की ऊंचाई
सिंहासन, गर्भगृह में किस ऊंचाई पर रखा जाएगा, यह एक्सपर्ट तय करेंगे। दरअसल, सिंहासन की ऊंचाई पृथ्वी के घूमने के आधार पर तय होगी, ताकि रामनवमी पर दोपहर 12 बजे सूर्य की किरणें रामलला के ललाट का स्पर्श कर गर्भगृह को रोशन करें।

22 जनवरी 2024 को राम मंदिर में रामलला की प्रतिमा की प्राण-प्रतिष्ठा होगी। तैयारियों को लेकर राम मंदिर निर्माण समिति की दो दिन चलने वाली बैठक आज से होगी।

राम मंदिर के गर्भगृह की दो तस्वीरें…

यह तस्वीर राम मंदिर के गर्भगृह की है। शनिवार को यहां लाइटिंग का काम पूरा हो गया।

यह तस्वीर राम मंदिर के गर्भगृह की है। शनिवार को यहां लाइटिंग का काम पूरा हो गया।

राम मंदिर के गर्भगृह में छत पर शानदार नक्काशी की गई है।

राम मंदिर के गर्भगृह में छत पर शानदार नक्काशी की गई है।

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव चंपत राय ने शनिवार को अपने X अकाउंट पर राम मंदिर के गर्भगृह से जुड़ी लेटेस्ट तस्वीर शेयर की। उन्होंने लिखा, “प्रभु श्री रामलला का गर्भगृह स्थान लगभग तैयार है। हाल ही में लाइटिंग-फिटिंग का कार्य भी पूर्ण कर लिया गया है।”

राम कथा कुंज में तैयार की गई राजा दशरथ और भगवान श्रीराम की मूर्ति।

राम कथा कुंज में तैयार की गई राजा दशरथ और भगवान श्रीराम की मूर्ति।

त्रेतायुग का काम कलयुग में हो रहा
अखिल लोधी क्षत्रिय राम जानकी मंदिर के महंत कांति शरण का कहना है, “राम कथा कुंज वर्कशॉप में रामायण की कई झांकियां बन रही हैं। दशरथ जी ने यज्ञ किया और अग्निदेव प्रकट हुए थे। उन सबको लेकर भगवान के धरती पर विराजमान होने तक पूरे सीन बन रहे हैं। हजारों साल से अधूरा पड़ा काम पूरा हो रहा है। त्रेता का काम कलयुग में हो रहा है।”

यह मूर्ति श्रीराम के वनवास जाने की है। उनके साथ माता सीता और लक्ष्मण व अन्य भाई भी नजर आ रहे हैं।

यह मूर्ति श्रीराम के वनवास जाने की है। उनके साथ माता सीता और लक्ष्मण व अन्य भाई भी नजर आ रहे हैं।

रामायण पर आधारित 100 प्रसंगों पर मूर्तियां बनेंगी
झांकी को तैयार करने में लगे मुख्य मूर्तिकार रंजीत मंडल का कहना है, “मेरा सौभाग्य है कि इन मूर्तियों को तैयार करने का मौका मिला। 60 से अधिक मूर्तियों को तैयार कर लिया गया है। इसमें गुरुकुल से लेकर वनवास और लंका जाने तक की मूर्ति तैयार की जा रही है। रामायण पर आधारित 100 प्रसंगों पर मूर्तियों का निर्माण करना है। इसमें अभी दो से तीन साल और लगेंगे।”

यह मूर्ति भगवान श्रीराम के गुरुकुल में दीक्षा ग्रहण करने के प्रसंग पर आधारित है।

यह मूर्ति भगवान श्रीराम के गुरुकुल में दीक्षा ग्रहण करने के प्रसंग पर आधारित है।

मंडल ने बताया कि विहिप के तत्कालीन अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक सिंघल को उनकी मूर्ति कला बहुत पसंद आई थी। वे दो दशक पहले उन्हें इस काम के लिए अयोध्या लाए थे। लगभग एक दशक से यह काम किया जा रहा है। पहले इन मूर्तियों को राम सेवक पुरम में रखा जाना है। अब जब भव्य राम मंदिर बनकर तैयार हो चुका है तो इसे वहां गैलरी बनाकर भक्तों के दर्शन के लिए रखे जाने की योजना है।”

राजा दशरथ अपनी तीनों पत्नी और बच्चों के साथ।

राजा दशरथ अपनी तीनों पत्नी और बच्चों के साथ।

राम मंदिर में बिजली कनेक्शन का काम पूरा, सीएम ने दी बधाई
श्री अयोध्या धाम में प्रभु श्री राम के निर्माणाधीन भव्य एवं दिव्य मंदिर में आज बिजली कनेक्शन का काम पूरा हो गया। इसके लिए सीएम योगी आदित्यनाथ ने साेशल मीडिया पर पोस्ट कर अभूतपूर्व कार्य करने वाले यूपी पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड को धन्यवाद दिया है। उन्होंने इस काम के पूरे होने की सभी राम भक्तों एवं प्रदेश वासियों को बधाई भी दी है।

रामजन्मभूमि परिसर में 33 किलो वाट का इलेक्ट्रिक सब-स्टेशन बनाया गया है। यह काम 5 दिसंबर तक ही होना था, लेकिन फिर 8 दिसंबर तक का समय लग गया। शुक्रवार को कंट्रोल रूम में पूजन किया गया।

राम मंदिर में बिजली कनेक्शन का काम पूरा हो गया।

राम मंदिर में बिजली कनेक्शन का काम पूरा हो गया।

फर्स्ट फ्लोर का काम भी 80% पूरा हो जाएगा
22 जनवरी 2024 को होने वाली प्राण-प्रतिष्ठा से पहले मंदिर के ग्राउंड फ्लोर का काम पूरा हो जाएगा। फर्स्ट फ्लोर भी 80% बनकर तैयार हो जाएगा। हालांकि इसे पूरा करने पर जोर है। परकोटे का मुख्य द्वार, यात्री सुविधा केंद्र के साथ कैम्पस सिक्योरिटी के तौर पर लगाए जा रहे अनमैन्ड सिक्योरिटी डिवाइस लगाने का काम भी 31 दिसंबर तक पूरा करने की तैयारी है।

फर्श की घिसाई का काम शुरू हो चुका है
अयोध्या में शनिवार को राम मंदिर भवन निर्माण समिति की पहले दिन की बैठक हुई । इसमें राम जन्म भूमि परिसर में प्राण प्रतिष्ठा को लेकर हो रही तैयारियों पर मंथन किया गया। ट्रस्ट के सदस्य डॉ अनिल मिश्रा ने बताया कि राम मंदिर में फर्श के निर्माण का काम सभी मंडप में पूरा हो चुका है। अब फर्श की घिसाई का काम शुरू किया गया है। उन्होंने बताया कि परकोटे से मंदिर जाने वाले मार्ग पर भी कर्नाटक का पत्थर लगाया जाएगा। जबकि खाली जगह पर हरियाली लगाई जाएगी। राम मंदिर निर्माण समिति की दो दिवसीय बैठक रविवार को भी होगी।

हर दिन डेढ़ से ढाई लाख श्रद्धालु रामलला के दर्शन कर पाएंगे

डॉ अनिल मिश्रा ने बताया कि राम मंदिर परिसर में सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम किए जाएंगे। सीसीटीवी कैमरों की भी वायरिंग हो चुकी है। रामलला का परिसर 25 दिसंबर से अत्यधिक सुरक्षा के उपकरणों से लैस होगा। वहीं उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से सुरक्षा उपकरण, स्कैनर प्रिस्क्रिप्शन मशीन 20 दिसंबर से ही लगा दी जाएंगी। जबकि 30 दिसंबर तक सुरक्षा प्रकाश आवागमन और यात्री सुविधा केंद्र के भी सभी काम पूरे कर लिए जाएंगे। आने वाले दिनों में हर दिन डेढ़ से ढाई लाख लोग राम लला के दर्शन कर पाएंग। भक्तों के लिए चार पंक्तियों में दर्शन करने की व्यवस्था होगी।

About the author

THE INTERNAL NEWS

Add Comment

Click here to post a comment

CommentLuv badge

Topics

Translate:

Google News
Translate »
error: Content is protected !!