politics

छत्तीसगढ़ के पहले आदिवासी CM होंगे विष्णुदेव साय:भ्रष्टाचार-विवादों से दूर, संघ के करीबी; आदिवासी सीटों पर पार्टी को सबसे बड़ी जीत दिलाई

TIN NETWORK
TIN NETWORK

छत्तीसगढ़ के पहले आदिवासी CM होंगे विष्णुदेव साय:भ्रष्टाचार-विवादों से दूर, संघ के करीबी; आदिवासी सीटों पर पार्टी को सबसे बड़ी जीत दिलाई

रायपुर

विष्णुदेव साय केंद्रीय मंत्री और छत्तीसगढ़ भाजपा अध्यक्ष भी रह चुके हैं। - Dainik Bhaskar

विष्णुदेव साय केंद्रीय मंत्री और छत्तीसगढ़ भाजपा अध्यक्ष भी रह चुके हैं।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय होंगे। रविवार को रायपुर में हुई BJP विधायक दल की बैठक में उनके नाम पर मुहर लगी। राजनीति में विष्णुदेव साय साफ-सुथरी छवि और लंबी राजनीतिक पारी खेलने वाले बड़े आदिवासी चेहरा हैं।

विष्णुदेव साय के नाम को बंद लिफाफे में लेकर पर्यवेक्षक झारखंड के पूर्व सीएम अर्जुन मुंडा, केंद्रीय मंत्री सर्बानंद सोनोवाल और दुष्यंत कुमार गौतम आए थे। साय ने कुनकुरी विधानसभा सीट से चुनाव जीता है। चुनाव प्रचार के दौरान केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने जनता से कहा था- आप इन्हें विधायक बनाओ, हम बड़ा आदमी बना देंगे।

बता दें कि इस विधानसभा चुनाव में भाजपा को आदिवासी क्षेत्रों में अब तक की सबसे बड़ी जीत मिली है।

विष्णुदेव साय अपनी साफ-सुथरी, ईमानदार और शांत छवि के लिए पहचाने जाते हैं।

विष्णुदेव साय अपनी साफ-सुथरी, ईमानदार और शांत छवि के लिए पहचाने जाते हैं।

विष्णुदेव के नाम पर ही मुहर क्यों?
भाजपा ने छत्तीसगढ़ में मिली ऐतिहासिक जीत में आदिवासी बहुल क्षेत्र सरगुजा और बस्तर संभागों में अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया है। पार्टी ने सरगुजा की सभी 14 सीटों व बस्तर संभाग की 12 में से 8 सीटों पर कब्जा किया है। ऐसे में लोकसभा चुनाव को देखते हुए भाजपा ने आदिवासी कार्ड खेला है।

छत्तीसगढ़ में हमेशा से स्थानीय और आदिवासी मुख्यमंत्री की मांग होती रही है। प्रदेश की सियासत में विष्णुदेव साय कथित तौर पर रमन सिंह के खेमे के ही माने जाते हैं। साय को संघ का करीबी भी कहा जाता है। उनको करीब 35 साल का राजनीतिक और प्रदेश अध्यक्ष रहते संगठन चलाने का अनुभव भी है।

पूर्व सीएम बघेल से 3 साल छोटे हैं साय
विष्णुदेव साय का जन्म 21 फरवरी 1964 को जशपुर के ग्राम बगिया में स्व. रामप्रसाद साय और जसमनी देवी के घर हुआ था। पूर्व सीएम भूपेश बघेल से वे 3 साल छोटे हैं। किसान परिवार से आने वाले साय ने लंबा राजनीतिक सफर तय कर ऊंचा मुकाम हासिल किया। प्रदेश और देश की राजनीति में सक्रिय रहे।

कुनकुरी में ही पढ़ाई की, फिर छूटा स्कूल
विष्णुदेव साय की प्रारंभिक शिक्षा कुनकुरी में ही हुई। इसके बाद उन्होंने वहीं से 12वीं तक की पढ़ाई की, लेकिन फिर उनका स्कूल छूट गया। पिता के साथ खेती-किसानी में हाथ बंटाने वाले साय ने 25 साल की उम्र में राजनीति में कदम रखा। उनके परिवार के अन्य लोग शुरू से ही जनसंघ से जुड़ रहे।

भूपेश से संपत्ति के मामले में पीछे हैं साय
विधानसभा चुनाव के लिए निर्वाचन आयोग को दिए गए शपथपत्र के अनुसार, पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की संपत्ति 6.5 करोड़ रुपए है। वहीं मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, विष्णुदेव साय की संपत्ति 2.98 करोड़ रुपए है। इसमें उनकी कृषि, जमीन और घर भी शामिल हैं। आय का स्रोत भी किसानी ही है।

सरपंच से शुरू हुआ राजनीतिक करियर
विष्णुदेव साय ने अपना राजनीतिक करियर गांव की राजनीति से शुरू किया। वह 1989-1990 में अविभाजित मध्य प्रदेश में तपकरा की ग्राम पंचायत बगिया से निर्विरोध सरपंच चुने गए। इसके बाद पहली बार भाजपा के टिकट पर 1990 में तपकरा सीट से ही विधायक बने। 8 साल विधायक रहने के बाद 2004 में रायगढ़ से सांसद चुने गए।

लोकसभा का यह सफर 2014 तक जारी रहा। सांसद रहने के दौरान मोदी सरकार में इस्पात मंत्रालय में राज्यमंत्री बनाए गए। इस बीच 2011 और फिर 2020 में पार्टी ने साय को छत्तीसगढ़ भाजपा का प्रदेश अध्यक्ष बनाया। 2022 में भाजपा की राष्ट्रीय कार्य समिति के सदस्य बनाए गए।

परिवार से मिला राजनीतिक अनुभव
साय खुद किसान परिवार से थे, लेकिन उनके बड़े पिताजी स्व. नरहरि प्रसाद साय और दादा स्व. बुधनाथ साय जनसंघ के समय से ही राजनीति में रहे। नरहरि प्रसाद तपकरा से विधायक थे, फिर लैलूंगा से विधायक और बाद में सांसद चुने गए। केंद्र में संचार राज्यमंत्री बने। वहीं दादा भी 1947-1952 तक विधायक रहे।

तस्वीरों में देखिए विष्णुदेव साय का सफर…

पहली बार प्रदेश अध्यक्ष चुने जाने के बाद तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के साथ विष्णुदेव साय।

पहली बार प्रदेश अध्यक्ष चुने जाने के बाद तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के साथ विष्णुदेव साय।

विधानसभा चुनाव में मिली जीत के बाद समर्थकों ने विष्णुदेव साय को लड्डुओं से तौला था।

विधानसभा चुनाव में मिली जीत के बाद समर्थकों ने विष्णुदेव साय को लड्डुओं से तौला था।

विष्णुदेव साय और उनकी पत्नी कौशल्या की यह तस्वीर उनकी विदेश यात्रा की है।

विष्णुदेव साय और उनकी पत्नी कौशल्या की यह तस्वीर उनकी विदेश यात्रा की है।

विष्णुदेव साय अपनी बेटी के साथ। उनकी दो बेटियां और एक बेटा है।

विष्णुदेव साय अपनी बेटी के साथ। उनकी दो बेटियां और एक बेटा है।

विष्णुदेव साय ने भाजपा विधायक रामविचार नेताम को मिठाई खिलाकर स्वागत किया।

विष्णुदेव साय ने भाजपा विधायक रामविचार नेताम को मिठाई खिलाकर स्वागत किया।

चुनाव अभियान के दौराय साय कुनकुरी विधानसभा के ग्राम भुरसा में अखिल भारतीय वनवासी कल्याण आश्रम द्वारा आयोजित करम कहानी प्रशिक्षण कार्यक्रम में शामिल हुए थे।

चुनाव अभियान के दौराय साय कुनकुरी विधानसभा के ग्राम भुरसा में अखिल भारतीय वनवासी कल्याण आश्रम द्वारा आयोजित करम कहानी प्रशिक्षण कार्यक्रम में शामिल हुए थे।

About the author

THE INTERNAL NEWS

Add Comment

Click here to post a comment

CommentLuv badge

Topics

Translate:

Google News
Translate »
error: Content is protected !!