National News

लोकसभा घुसपैठ केस में 8 सुरक्षाकर्मी सस्पेंड:PM ने मंत्रियों के साथ मीटिंग की; आरोपियों ने संसद में घुसने का डेढ़ साल पहले प्लान बनाया था

TIN NETWORK
TIN NETWORK

लोकसभा घुसपैठ केस में 8 सुरक्षाकर्मी सस्पेंड:PM ने मंत्रियों के साथ मीटिंग की; आरोपियों ने संसद में घुसने का डेढ़ साल पहले प्लान बनाया था

नई दिल्ली

संसद में घुसपैठ के अगले दिन यानी 14 दिसंबर को मकर द्वार से सिर्फ सांसदों को एंट्री दी गई। मीडियो को भी दूर रखा गया। - Dainik Bhaskar

संसद में घुसपैठ के अगले दिन यानी 14 दिसंबर को मकर द्वार से सिर्फ सांसदों को एंट्री दी गई। मीडियो को भी दूर रखा गया।

13 दिसंबर को संसद में घुसपैठ मामले में संसद सचिवालय ने 8 सुरक्षाकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है। सस्पेंड किए गए सुरक्षाकर्मियों के नाम रामपाल, अरविंद, वीर दास, गणेश, अनिल, प्रदीप, विमित और नरेंद्र है।

आज पीएम मोदी संसद पहुंचे और उन्होंने केंद्रीय मंत्रियों के साथ बैठक की। मीटिंग में गृह मंत्री अमित शाह, बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी और अनुराग ठाकुर मौजूद रहे।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, आरोपियों ने पहले ही संसद के बाहर की रेकी कर ली थी। सभी आरोपी एक सोशल मीडिया पेज ‘भगत सिंह फैन क्लब’ से जुड़े थे।

लगभग डेढ़ साल पहले सभी आरोपी मैसूर में मिले थे। आरोपी सागर जुलाई में लखनऊ से दिल्ली आया था लेकिन संसद भवन में इंट्री नहीं कर सका था। 10 दिसंबर को एक-एक करके सभी अपने-अपने राज्यों से दिल्ली पहुंचे।

घटना वाले दिन सभी आरोपी इंडिया गेट के पास इकट्ठा हुए, जहां सभी को कलर स्प्रे बांटा गया। पुलिस ने बताया, शुरुआती जांच के अनुसार संसद सुरक्षा उल्लंघन का मुख्य साजिशकर्ता कोई और है।

दिल्ली पुलिस ने UAPA के तहत केस दर्ज किया
उधर, दिल्ली पुलिस ने एंटी टेरर और गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (UAPA) के तहत केस दर्ज कर लिया। लोकसभा सचिवालय के अनुरोध पर, गृह मंत्रालय ने इस घटना की जांच का आदेश दिया है। CRPF के महानिदेशक अनीश दयाल सिंह के नेतृत्व में एक जांच कमेटी बनाई गई है। इसमें अन्य सुरक्षा एजेंसियों और एक्सपर्ट शामिल हैं।

पुलिस ने बताया कि कुल छह आरोपी हैं। दो अंदर घुसे थे, जबकि दो बाहर प्रदर्शन कर रहे थे। पूछताछ में दो लोगों का और नाम सामने आया। फिलहाल पांच गिरफ्त में है और एक फरार है।

संसद में घुसपैठ से जुड़े अपडेट्स…

  • संसद में घुसपैठ को लेकर तेलंगाना विधानसभा में सुरक्षा कड़ी कर दी गई। प्रोटेम स्पीकर अकबरुद्दीन ओवैसी ने निर्देश दिया कि विधानसभा में आने वाले हर व्यक्ति की गहनता से जांच की जाए। साथ ही विधानसभा में इंट्री के लिए कोई नए पास जारी नहीं होंगे।
  • महाराष्ट्र विधान परिषद की उपाध्यक्ष नीलम गोरे ने लोकसभा में सुरक्षा उल्लंघन के बाद बुधवार को अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे विजिटर्स को गैलरी पास जारी न करें। राज्य विधानमंडल का शीतकालीन सत्र इस समय नागपुर में चल रहा है।

आतंकी पन्नू ने आरोपियों को 10 लाख देने का ऐलान किया
संसद में घुसपैठ मामले के चारों आरोपियों को खालिस्तानी आतंकी समूह सिख फॉर जस्टिस (SFJ) के गुरपतवंत सिंह पन्नू ने लीगल एड देने की पेशकश की है। उसने इस मामले में संदेश जारी करते हुए कहा- वह आरोपियों को 10 लाख की कानूनी सहायता देगा। लेकिन पूरे प्रकरण में उसकी संलिप्तता है, इस पर पन्नू ने कोई टिप्पणी नहीं की है।

5 जरूरी कदम, जो अब उठाए…
नई संसद में घुसपैठ के बाद अब सिक्योरिटी प्रोटोकॉल्स में कई बदलाव किए जा रहे…

1. सांसदों, स्टाफ मेंबर्स और पत्रकारों के एंट्री गेट अलग होंगे। विजिटर्स को चौथे गेट से प्रवेश कराया जाएगा।
2. विजिटर पास जारी करने पर अभी रोक लगा दी गई है।
3. दर्शकदीर्घा के चारों ओर ग्लास की शील्ड लगाई जाएगी, ताकि कोई कूदकर सदन के अंदर न आ सके।
4. एयरपोर्ट की तरह बॉडी स्कैन मशीनें लगाई जाएंगी।
5. सुरक्षाकर्मियों की संख्या में भी बढ़ोतरी की जाएगी।

यह वो कलर स्प्रे का खाली डब्बा है,जिससे रंग छोड़ा गया था।

यह वो कलर स्प्रे का खाली डब्बा है,जिससे रंग छोड़ा गया था।

संसद के सुरक्षा गैजेट्स 19 साल पुराने, नई भर्ती भी नहीं
संसदीय सुरक्षा से जुड़े एक शीर्ष अधिकारी ने बताया कि स्मोक कैन अंदर कैसे पहुंचा, यह सबसे हैरानी की बात है। अगर यह जूते या मोजे में छिपा था तो DFMD (डोरफ्रेम मेटल डिटेक्टर) में जरूर पकड़ा जाना चाहिए था। हालांकि, एक वजह यह भी संभव है कि 2004 के बाद से संसद के सुरक्षा गैजेट नहीं खरीदे गए, यानी ये 19 साल पुराने हैं।

एक अन्य संसदीय सुरक्षा अधिकारी ने बताया कि उनके स्टाफ में 10 साल से नई भर्ती नहीं हुई है। करीब 150 सुरक्षाकर्मियों के पद खाली पड़े हैं। नई संसद में फेशियल रीडिंग के उपकरण ही नए हैं। बाकी मैनुअल चेकिंग बहुत कम हो गई है। पुरानी संसद में उस पर ज्यादा जोर था।

मनोरंजन के पिता बोले- गलत किया तो बेटे को फांसी पर लटका दो
डी मनोरंजन कर्नाटक के मैसुरु का रहने वाला है। उसने 2016 में बैचलर इन इंजीनियरिंग (BE) की पढ़ाई पूरी की थी। दिल्ली और बेंगलुरु में कुछ कंपनियों में काम भी किया। अब वह परिवार के साथ खेती का काम देख रहा था। मनोरंजन ने भाजपा सांसद प्रताप सिम्हा के ऑफिस से लोकसभा में एंट्री के लिए पास लिया था। उसने सागर शर्मा को अपना दोस्त बताया था।

मनोरंजन के पिता देवराजे गौड़ा ने कहा, ‘अगर मेरे बेटे ने गलत किया है, तो उसे फांसी पर लटका दीजिए। वह संसद हमारी है। इसे बनाने में महात्मा गांधी और नेहरू जैसे नेताओं ने कड़ी मेहनत की थी।’ हालांकि, उन्होंने यह भी दावा किया कि उनका बेटा ईमानदार और सच्चा है। उसकी एकमात्र इच्छा समाज के लिए अच्छा करना और समाज के लिए बलिदान देना है।

सेना भर्ती में जाने की कहकर घर से निकला था अमोल
अमोल शिंदे (25) महाराष्ट्र के लातुर जिले के जरी गांव का रहने वाला है। उसने ग्रेजुएशन तक पढ़ाई की है। वह पुलिस और सेना भर्ती परीक्षाओं की तैयारी के साथ दिहाड़ी मजदूरी करता था। अमोल के मां-बाप और दो भाई भी मजदूरी करते हैं। अमोल के परिवार के मुताबिक, वह 9 दिसंबर को यह कहकर घर से निकला था कि वह सेना भर्ती के लिए दिल्ली जा रहा है। उसने पहले भी इस तरह के कई भर्ती परीक्षा में हिस्सा लिया था, इसलिए उसके माता-पिता को कोई शक नहीं हुआ।

ललित की जानकारी जुटा रही पुलिस
इन पांच किरदारों के अलावा एक और नाम सामने आया है। वो है ललित, जो हरियाणा का रहने वाला है। इसके बारे में इससे ज्यादा जानकारी अभी बाहर नहीं आई है। यह फरार है। पुलिस सूत्रों का कहना है कि इसकी तलाश में दबिशें दी जा रही हैं। पकड़े गए लोगों से केंद्रीय एजेंसियां पूछताछ कर रही हैं।

ये खबर भी पढ़ें…

सांसद के दस्तखत बिना नहीं मिलते पास:कपड़े, जूते और शरीर की 3 बार होती है जांच; सुरक्षा में कैसे लगी सेंध

संसद की कार्यवाही देखने के लिए संसद का एंट्री पास बनवाना होता है। इसके लिए संसद सचिवालय में आवेदन करना होता है। इस आवेदन को किसी एक सांसद से वेरिफाई कराना होता है। सबसे पहली लेयर में संसद के मेन गेट पर चेकिंग होती है, जहां आपके फोन और अन्य इलेक्ट्रॉनिक और मैटेलिक उपकरणों को जमा कर लिया जाता है।

संसद सिक्योरिटी ब्रेक के 6 किरदार:ऑनलाइन मिले, 5 गिरफ्तार, 1 फरार; एक आरोपी के घर में ठहरे थे सभी

अभी तक की जांच में इस सिक्योरिटी ब्रेक के 6 किरदार सामने आए हैं। दो ने सदन के अंदर हंगामा किया, दो ने सदन के बाहर प्रदर्शन किया। ये चारों पुलिस की गिरफ्त में हैं। दो और लोग प्लानिंग में शामिल थे, इनमें से एक ने सभी को अपने घर में ठहराया था। उसे पुलिस ने पत्नी समेत हिरासत में ले लिया है। हालांकि, पत्नी इन छह आरोपियों में शामिल नहीं है। एक अभी भी फरार है।

संसद हमले की बरसी पर सुरक्षा फिर धराशायी:पन्नू की धमकी से पुलिस अलर्ट थी, फिर भी घुसे प्रदर्शनकारी

खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नू ने संसद पर हमले की धमकी दी थी। इसके बाद से ही दिल्ली पुलिस अलर्ट पर थी। फिर भी 5 लेयर सुरक्षा तोड़कर लोकसभा में प्रदर्शनकारी घुसे और हंगामा किया। 

About the author

THE INTERNAL NEWS

Add Comment

Click here to post a comment

CommentLuv badge

Topics

Translate:

Google News
Translate »
error: Content is protected !!