crime

RPSC एग्जाम में अपनी जगह डमी कैंडिडेट बिठाया, गिरफ्तार:डॉक्युमेंट वेरिफेक्शन में फोटो से पकड़ा गया अभ्यर्थी; नकल विरोधी कानून में मामला दर्ज

TIN NETWORK
TIN NETWORK

राजस्थान लोक सेवा आयोग (RPSC) की ओर से 14 मई 2023 को हुई रेवेन्यू ऑफिसर ग्रेड सेकेंड और एग्जीक्यूटिव ऑफिसर ग्रेड फोर्थ (RO-EO) भर्ती परीक्षा में फर्जी कैंडिडेट से एग्जाम दिलाने का मामला सामने आया है। कैंडिडेट ने एग्जाम भी पास कर लिया था, लेकिन डॉक्युमेंट्स वेरिफिकेशन के दौरान पकड़ा गया।

RPSC सचिव रामनिवास मेहता की ओर से बुधवार (13 दिसंबर) को अजमेर के सिविल लाइंस थाने में RPSC अधिकारी शिवराज सिंह ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इसके बाद पुलिस ने गुरुवार शाम 14 दिसंबर को 6 बजे महुआ (दौसा) से कैंडिडेट को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने कैंडिडेट पर नकल विरोधी कानून की धारा लगाई है।

पुलिस कैंडिडेट से पूछताछ कर रही है। उससे फर्जी कैंडिडेट के बारे में जानकारी जुटाने की कोशिश की जा रही है।

पुलिस कैंडिडेट से पूछताछ कर रही है। उससे फर्जी कैंडिडेट के बारे में जानकारी जुटाने की कोशिश की जा रही है।

कैंडिडेट को दौसा से किया गिरफ्तार

जांच अधिकारी एएसपी महमूद खान ने बताया कि आयोग के सचिव रामनिवास मेहता की रिपोर्ट पर RPSC अधिकारी शिवराज सिंह ने मामला दर्ज कराया। आरोपी गांव सालिमपुर महुआ (दौसा) निवासी पुष्पेंद्र सिंह मीणा पुत्र मुरारीलाल मीणा ने अपनी जगह दूसरे को परीक्षा में बैठाया। पुलिस ने गुरुवार शाम 6 बजे आरोपी कैंडिडेट को उसके गांव से गिरफ्तार किया। नकल विरोधी कानून में मामला दर्ज किया गया है। इसकी पूरी जानकारी एसओजी को भी दी जाएगी। वहीं इस मामले में स्पेशल टीम भी पूछताछ करने में जुटी है।

डॉक्युमेंट वेरिफिकेशन में पकड़ा गया

आयोग सचिव रामनिवास मेहता ने बताया कि रेवेन्यू ऑफिसर ग्रेड सेकेंड और एग्जीक्यूटिव ऑफिसर ग्रेड फोर्थ एग्जाम (RO-EO) इसी साल 14 मई को आयोजित किया था। आरोपी कैंडिडेट का सेंटर वेदिक गर्ल्स स्कूल आदर्श नगर राजा पार्क आया था। उसने अपनी जगह किसी फर्जी कैंडिडेट को एग्जाम में बैठाया। वह परीक्षा में पास हो गया।

इसके बाद बुधवार 13 दिसंबर को पास हुए कैंडिडेट को डॉक्युमेंट वेरिफिकेशन के लिए बुलाया गया था। इसी दौरान पुष्पेंद्र के एप्लीकेशन फॉर्म और एग्जाम की अटेंडेंस शीट का मिलान किया गया तो दोनों ही फोटो में अंतर पाया गया। उसके एग्जाम फॉर्म और एग्जाम दिन अटेंडेंस शीट में लगी फोटो अलग-अलग थी। पूछताछ में वह कोई जवाब नहीं दे पाया। ऐसे में, तुरंत कैंडिडेट के खिलाफ कार्रवाई करते हुए FIR दर्ज कराई गई।

बर्थ डेट में भी किया था हेरफेर

आयोग सचिव मेहता ने बताया कि इसके साथ ही आरोपी पुष्पेंद्र ने बर्थ डेट में भी हेरफेर किया था। उसने प्रवेश-पत्र में अंकित जन्म दिनांक 1 सितंबर 1991 में को एडिट कर 1 सितंबर 1997 कर दिया। बता दें कि आयोग द्वारा इस परीक्षा का आयोजन 14 मई 2023 को किया गया था। इसमें पास हुए कैंडिडेट्स की लिस्ट 21 नवंबर 2023 को जारी की गई थी। इसके बाद 11 से 13 दिसंबर डॉक्युमेंट्स वेरिफिकेशन के लिए बुलाया गया। इसी दौरान कैंडिडेट का फर्जीवाड़ा सामने आया। पुलिस मामले को लेकर फर्जी कैंडिडेट के बारे में पूछताछ का रही है।

141 पदों पर होनी है भर्ती

परीक्षा का आयोजन 14 मई को किया गया। अजमेर, अलवर, भरतपुर, बीकानेर, हनुमानगढ़, जयपुर, जोधपुर, कोटा, श्रीगंगानगर, टोंक और उदयपुर जिला मुख्यालयों पर 2 चरणों में प्रातः 10 से 12.00 बजे और दोपहर 2 से 4 बजे तक यह परीक्षा आयोजित की गई थी। इसमें 118 पदों पर भर्ती की जानी है।

About the author

THE INTERNAL NEWS

Add Comment

Click here to post a comment

CommentLuv badge

Topics

Translate:

Google News
Translate »
error: Content is protected !!