Bikaner update

युवाओं को शिक्षा के साथ-साथ धार्मिक गतिविधियों में भी आगे आना चाहिए : महंत केशवदास महाराजजगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य की 724वीं जयंती महोत्सव का हुआ आयोजन

TIN NETWORK
TIN NETWORK


बीकानेर। जगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य की 724वीं जयंती महोत्सव अंशुल सुशांत सिटी स्थित रामावत समाज भवन में धूमधाम से मनाया गई। नवयुवक मंडल अध्यक्ष घनश्याम रामावत ने बताया कि महोत्सव में मुख्य अतिथि विधायक जेठानंद व्यास, भाजपा नेता सुरेंद्र सिंह शेखावत रहे। महोत्सव की शुरूआत श्रीश्री 1008 महंत केशवदास महाराज, महंत स्वामी लक्ष्मीनारायण दास महाराज, संत सुखदेव महाराज, एडवोकेट संजय रामावत, बृजमोहन रामावत, जयकिशन रामावत, विमला देवी, शांति देवी आदि ने गुरुजी की प्रतिमा पर दीप प्रज्ज्वलन और श्रीराम स्तुति के साथ की।
महंत स्वामी लक्ष्मीनारायण महाराज ने कहा कि समाज को एकजुटता के साथ प्रगति के पथ पर आगे बढऩा चाहिए। हमेशा एक-दूसरे का सहयोग करें तथा शिक्षा के साथ-साथ धार्मिक गतिविधियों में भी भाग लेना चाहिए।
नंदनवन गौशाला गडिय़ाला महंत सुखदेव महाराज ने कहा कि युवाओं को देश सेवा के साथ-साथ सामाजिक गतिविधियों में भी अग्रणी भूमिका निभानी चाहिए। समाज में युवा वर्ग को खेल और शिक्षा में पूरे जोश के साथ आगे बढऩा चाहिए।
विधायक जेठानंद व्यास ने जयश्रीराम के नारे के साथ युवाओं को देश सेवा में अग्रणी भूमिका निभाने का आव्हान किया। उन्होंने कहा कि आज देश आगे बढ़ रहा है इसके साथ ही रामावत समाज की युवा बालिकाओं और बालकों को भी कंधे से कंधा मिलाकर आगे बढऩा चाहिए।
भाजपा नेता सुरेंद्र सिंह शेखावत ने कहा कि जिस समाज में मातृशक्ति को बढ़ावा मिलता है वह समाज हमेशा आगे बढ़ता है। समाज के युवाओं को कारोबारा के साथ-साथ प्रशासनिक सेवा में प्रयास करना चाहिए।
संरक्षक महेंद्र साध ने बताया कि महोत्सव के दौरान एडवोकेट शिवशंकर स्वामी, द्वारकाप्रसाद रामावत ने मुख्य अतिथि और संतों का माल्यार्पण और स्मृति चिन्ह देकर स्वागत किया।
सचिव राजेश सांडवा ने बताया कि महोत्सव के दौरान समाज की युवा प्रतिभाओं जिन्होंने 10वीं, 12वीं, स्नातक, स्नातकोत्तर एवं बी.एड. सहित अन्य परीक्षाओं में शानदान प्रदर्शन करने वालों का गीता की पुस्तक और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। साथ ही समाज के वृद्धजनों का भी सम्मान किया गया।
मंच का संचालन करते हुए आरजे दिनेश रामावत ने बताया कि महोत्सव के दौरान नन्हे बच्चे और बालिकाओं द्वारा शानदान सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी। सभी को स्मृति चिन्ह देकर सम्मान किया गया। महोत्सव के दौरान कपिल रामावत, एडवोकेट वेदप्रकाश रामावत, विजय सांडवा, अभिषेक रामावत, विनोद रामावत सहित सैकड़ों की संख्या में उपस्थित मातृ शक्ति और युवाओं ने जयघोष के नारे लगाए। प्रकाश रामावत द्वारा बनाई गई गुरुजी की रंगोली आकर्षण का केंद्र बनी रही।
कार्यक्रम के अंत में श्री रामानुज निम्बार्कादी वैष्णव ब्राह्मण महासभा समाज अध्यक्ष बृजमोहन रामावत और सचिव संजय रामावत ने सभी अतिथियों और समाजबंधुओं का आभार व्यक्त किया। महोत्सव के सफल आयोजन के लिए जयकिशन रामावत, सुरेन्द्र जोधासर, गौरी शंकर डूंगरगढ़, महेश रामावत, हितेश साध, गोविन्द नाल, शिव कोलायत, संजय भोलासर, गणेश साध, राजा झझु, राजेंद्र मड, बजरंग हिम्मतसर, पंकज रामावत, गणेश नोखा, जितेन्द्र पारवा, मुकेश गिरिराजसर सहित समाज के युवाओं ने विशेष भूमिका निभाई। महोत्सव के अंत में समाजबंधुओं में प्रसाद का वितरण किया गया।

About the author

THE INTERNAL NEWS

Add Comment

Click here to post a comment

CommentLuv badge

Topics

Translate:

Google News
Translate »
error: Content is protected !!