DEFENCE, INTERNAL-EXTERNAL SECURITY AFFAIRS

देश की सुरक्षा के मोर्च पर बहुआयामी चुनौतियां, एयर चीफ मार्शल ने पासआउट अधिकारियों को दिए निपटने के मंत्र

OTA: देश की सुरक्षा के मोर्च पर बहुआयामी चुनौतियां, एयर चीफ मार्शल ने पासआउट अधिकारियों को दिए निपटने के मंत्र

चेन्नई में ओटीए स्थित परमेश्वरन ड्रिल स्क्वायर पर आयोजित परेड की समीक्षा करते हुए एयर चीफ मार्शल वीआर चौधरी ने कहा कि नई तकनीक और मौलिक रूप से नए सिद्धांतों के उभरने के साथ युद्ध एक बुनियादी बदलाव के दौर से गुजर रहा है।

अधिकारी प्रशिक्षण अकादमी (ओटीए) में सफलतापूर्वक ट्रेनिंग पूरा करने के बाद 184 अधिकारी कैडेट और 36 महिला कैडेट को शनिवार को भारतीय सेना के विभिन्न अंगों और सेवाओं में शामिल किया गया। ओटीए ने कहा कि इसके अतिरिक्त, मित्रवत अन्य देशों के तीन अधिकारी कैडेट और छह महिला कैडेटों ने भी सफलतापूर्वक अपना प्रशिक्षण पूरा किया। इससे सौहार्द के बंधन को बढ़ावा मिला और अंतरराष्ट्रीय सीमाओं के पार सहयोग को बढ़ावा दिया गया।

चेन्नई में ओटीए स्थित परमेश्वरन ड्रिल स्क्वायर पर आयोजित परेड की समीक्षा करते हुए एयर चीफ मार्शल वीआर चौधरी ने कहा कि नई तकनीक और मौलिक रूप से नए सिद्धांतों के उभरने के साथ युद्ध एक बुनियादी बदलाव के दौर से गुजर रहा है।

उन्होंने कहा, ”भारत की सुरक्षा के मोर्चे पर बहुआयामी खतरे और चुनौतियां शामिल हैं। इसके लिए हमें बहु-डोमेन क्षमताओं का निर्माण करने और एक साथ और कम समय सीमा में इसे निष्पादित करने की आवश्यकता होगी। उन्होंने युवा अधिकारियों से तकनीकी बदलाव के साथ खुद को ढालने का आह्वान किया।”

उन्होंने कहा कि ये अधिकारी उस समय इस महान पेशे में शामिल हो रहे है जब देश तकनीकी बदलाव की दहलीज पर है। उन्होंने कहा, ‘हमारे सशस्त्र बलों ने अगली पीढ़ी की युद्ध लड़ने वाली मशीनों को खरीदने के लिए भारी निवेश किया है। इन अत्यधिक शक्तिशाली प्रणालियों के भविष्य के ऑपरेटरों के रूप में आपको उनके साथ पूरी तरह से परिचित होने की आवश्यकता है, और यह केवल कठोर प्रशिक्षण, समर्पण और पेशेवर दृष्टिकोण के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है।    

भविष्य के अधिकारियों के रूप में, उन्हें सैन्य इतिहास, भू-राजनीति और अंतरराष्ट्रीय मामलों के अध्ययन के माध्यम से जटिल और गतिशील दुनिया की समझ विकसित करनी चाहिए। फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि राष्ट्र अधिकारियों से असाधारण व्यावसायिकता और निर्विवाद निष्ठा की अपेक्षा करता है।

चौधरी ने कहा, ‘हम आपसे उम्मीद करते हैं कि आप व्यक्तिगत आचरण और नैतिक मूल्यों के उच्चतम मानकों को बनाए रखेंगे जो हथियारों के पेशे में होने की गरिमा और गर्व को दर्शाते हैं।’ इसके अलावा, उन्होंने उनसे काम करते समय निष्पक्ष, सुसंगत और निस्वार्थ होने और अपने अधीनस्थों के साथ व्यवहार करते समय दयालु और समझदार होने का आग्रह किया। इससे पहले, एयर चीफ मार्शल ने एयूओ आर्यन शाही को सोर्ड ऑफ ऑनर और रजत पदक, एसीए शौर्य थापा को ओटीए स्वर्ण पदक और बीसीए सरन्या एम को कांस्य पदक प्रदान किया।

Topics

Translate:

Google News
Translate »
error: Content is protected !!