NATIONAL INVESTIGATION AGENCY N.I.A

बीकानेर सहित राजस्थान में 3 जगहों पर NIA ने डाली रेड: सुबह 5 बजे मकान की छापेमारी, साढ़े तीन घंटे तक हुई पूछताछ

नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) ने बुधवार तड़के राजस्थान में तीन जगहों पर रेड डाली। पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) साजिश मामले में NIA ने छापेमारी की है। NIA टीमों ने सुरक्षा के लिहाज से स्थानीय पुलिस की भी मदद ली है। टीम ने कुछ संदिग्धों को भी राउंड अप किया है।सूत्रों के मुताबिक NIA टीमों ने बुधवार तड़के राजस्थान के कोटा, टोंक और गंगापुर में कई जगहों पर छापेमारी की कार्रवाई की। NIA टीमों ने स्थानीय पुलिस की मदद से PFI के ठिकानों पर रेड डाली। NIA टीमों के छापेमारी की सूचना लगते ही लोगों में हड़कंप मच गया।

PFI पर NIA का बड़ा एक्शन

राजस्थान समेत यूपी, दिल्ली, महाराष्ट्र, तमिलनाडु में छापेमारी

राजस्थान के जयपुर, टोंक, बीकानेर, जोधपुर में छापेमारी

NIA के निशाने पर पहले से है PFI

अवांछित गतिविधियों को लेकर पहले से जारी है जांच

PFI पर UAPA के तहत लगाया हुआ है बैन

टोंक में अल सुबह छापेमारी

टोंक शहर में NIA की टीम ने बड़ा कुआ क्षेत्र में एक मकान पर छापेमारी की कार्रवाई की है। टीम ने संदिग्ध व्यक्ति और उसके परिवार से पूछताछ की है। हालांकि टीम ने किसी को गिरफ्तार नहीं किया है। करीब साढ़े तीन घंटे चली कार्रवाई व पूछताछ में संदिग्ध व्यक्ति और उसके परिवार से पूछताछ करके टीम वापस लौट गई है।

सूत्रों के अनुसार टोंक शहर के बड़ा कुआ क्षेत्र के एक व्यक्ति के देश में प्रतिबंधित संगठन पीएफआई से जुड़े होने की खबर मिली थी। इसका इनपुट मिलने के बाद सुबह 5 बजे टीम कोतवाली थाने पहुंची। यहां से पुलिस अधिकारियों की टीम के साथ संदिग्ध व्यक्ति के मकान में छापामारी की। बताया जा रहा है कि एनआईए की टीम ने 45 साल के व्यक्ति से पीएफआई की फंडिंग को लेकर जानकारी जुटाई है।

इधर, टीम के पहुंचते ही पूरे एरिया की घेराबंदी कर ली थी। घर के पास भी पुलिस जाब्ता तैनात कर सीज कर दिया था। ताकि किसी भी तरह की आवाजाही न हो। ये भी बताया जा रहा है कि छापेमारी कर कई संदिग्धों को हिरासत में लिया है। PFI ठिकानों से मिले डॉक्यूमेंट और IT गैजेट्स को भी टीम खंगाल रही है।

About the author

THE INTERNAL NEWS

Add Comment

Click here to post a comment

CommentLuv badge

Topics

Translate:

Google News
Translate »
error: Content is protected !!