DEFENCE, INTERNAL-EXTERNAL SECURITY AFFAIRS

चीन और पाकिस्तान… दो-दो मोर्चे पर लड़ाई की तैयारी कर रहा हिंदुस्तान, जानिए क्या है ऑपरेशन गगन शक्ति?

चीन और पाकिस्तान… दो-दो मोर्चे पर लड़ाई की तैयारी कर रहा हिंदुस्तान, जानिए क्या है ऑपरेशन गगन शक्ति?

Opertaion Gaganshakti: पाकिस्तान वायु सेना (PAF) ने हाल ही में एक वीडियो जारी किया है, जिसमें चीनी एफसी-310 ‘गायरफाल्कन’ (जिसे पहले जे-31 के नाम से जाना जाता था) उसकी झलक दी गई है, जो पांचवीं पीढ़ी का लड़ाकू जेट है।

लेकिन, भारतीय वायु सेना (Indian Air Force) अगले सप्ताह पाकिस्तानी एयरफोर्स को जवाब देगी जब वह पश्चिमी और पूर्वी सीमा पर एक विशाल युद्ध अभ्यास, ऑपरेशन गगनशक्ति शुरू करेगी। इंडियन एयरफोर्स 1 अप्रैल से ऑपरेशन गगन शक्ति का आगाज कर रही है, जिसमें 10 हजार से ज्यादा एयरफोर्स के जवान हिस्सा ले रहे हैं।

Gaganshakti

इंडियन एयरफोर्स का गगनशक्ति मिशन

10 दिनों तक चलने वाले इस युद्धाभ्यास में भारतीय वायुसेना की पाकिस्तान और चीन से एक साथ मुकाबला करने की क्षमता का परीक्षण किया जाएगा। गगनशक्ति-2024 के 2018 में हुए पिछले अखिल वायु सेना अभ्यास से भी बड़ा होने की उम्मीद है। गगनशक्ति 2018 में 1150 से ज्यादा विमानों ने 13 दिनों में 11,000 उड़ानें भरीं थी।

1 अप्रैल 2024 से, भारतीय सेना और भारतीय नौसेना एक साथ मिलकर एकीकृत युद्ध-लड़ने की रणनीतियों और रणनीति का परीक्षण करने के लिए लगभग पूरे हवाई बेड़े को उत्तर से दक्षिण और पश्चिम से पूर्व तक सक्रिय किया जाएगा।

2018 में इंडियन एयरफोर्स ने गगनशक्ति के दौरान सभी इलाकों के ऑपरेशनों को कवर किया था, जिसमें रेगिस्तान में युद्धाभ्यास, उच्च ऊंचाई, समुद्री और विशेष ऑपरेशन शामिल था। इसके अलावा, विशेष ध्यान हवाई युद्ध, हवा से सतह पर युद्ध, पैराट्रूपर हमले और घायल सैनिकों को युद्ध के मैदान से बाहर निकालने पर दिया गया था।

चीन-पाकिस्तान से एक साथ युद्ध की तैयारी

पिछले युद्धाभ्यास के पहला चरण में, पाकिस्तान के साथ पश्चिमी सीमा पर शुरू हुआ था, जहां सुखोई Su-30 MKI और समुद्री जगुआर लड़ाकू विमान पश्चिमी समुद्र तट पर निशाना साधने में लगे हुए थे। दूसरे चरण के दौरान, ध्यान पूर्वोत्तर राज्यों में चीन सीमा के पास पूर्वी गलियारे पर ट्रांसफर किया गया था।

भारतीय वायुसेना ने भारतीय नौसेना के साथ मिलकर समुद्री लक्ष्यों पर हमले किए थे। समुद्री संपत्तियां दक्षिणी प्रायद्वीप और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के ठिकानों से संचालित होती हैं। इस तालमेल की झलक हाल ही में भारतीय नौसेना और वायुसेना द्वारा चलाए गए समुद्री डकैती विरोधी अभियान में दिखाई दी।

भारतीय वायुसेना ने स्वदेशी एलसीए विमान का भी परीक्षण किया था और आकाश मिसाइल प्रणाली का टेस्ट किया था। वहीं, एडवांस मिराज-2000 और मिग-29 विमानों के ऑपरेशनल पावर का भी टेस्ट किया गया था।

2024 का गगनशक्ति ऑपरेशन बालाकोट युद्ध के बाद किया जा रहा है, जिसमे भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के साथ सीमा पार लक्ष्यों पर हमला किया और पीएएफ ने ऑपरेशन स्विफ्ट रिटॉर्ट को अंजाम दिया। तब से, IAF ने फ्रांसीसी लड़ाकू जेट राफेल, स्वदेशी लाइट कॉम्बैट हेलीकॉप्टर (LCH) प्रचंड और C-295 परिवहन विमान को शामिल किया है।

भारतीय वायुसेना ने ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइलों को सुखोई लड़ाकू विमानों के साथ जोड़ दिया है। वहीं, फ्रांसीसी राफेल को भी एडवांस कर दिया गया है और उसमें हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइल (बीवीआरएएएम) को अटैच कर दिया गया है।

IAF ने अपनी लिस्ट में रूसी S-400 सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइलों के साथ-साथ स्वदेशी एस्ट्रा बियॉन्ड विजुअल रेंज (BVR) हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइल को शामिल किया। लंबी दूरी की इन मिसाइलों ने भारतीय वायुसेना की मारक क्षमता को काफी हद तक बढ़ा दिया है।

LCA ‘तेजस’ को 2016 में IAF में शामिल किया गया था, लेकिन हाल ही में यह अपने दो LCA स्क्वाड्रनों को पश्चिमी और उत्तरी सीमाओं के साथ आगे के हवाई अड्डों पर टुकड़ी पर भेज रहा है। वर्ष 2023 में एलसीए को जम्मू-कश्मीर में तैनात किया गया।

भारतीय सेना की कोशिश अपने आप को हर एक ऐसी स्थिति के लिए तैयार करना है, जिसमें दुश्मन को मुंहतोड़ जवाब दिया जा सके।

About the author

THE INTERNAL NEWS

Add Comment

Click here to post a comment

CommentLuv badge

Topics

Translate:

Google News
Translate »
error: Content is protected !!