NATIONAL NEWS

भारतीय संगीत की छः दिवसीय कार्यशाला कल से टी.एम. ऑडिटोरियम में: टी.एम. लालानी, विरासत संवर्द्धन संस्थान, बीकानेर और सुर संगम संस्थान, जयपुर का संयुक्त प्रयास

बीकानेर 23 मई। टी.एम. लालानी एवं विरासत संवर्द्धन संस्थान, बीकानेर और सुर संगम संस्थान, जयपुर के संयुक्त तत्वावधान में उच्च स्तरीय भारतीय संगीत 6 दिवसीय कार्यशाला कल 24 मई, 2024 को टी.एम. ऑडिटोरियम, गंगाशहर, बीकानेर में प्रारम्भ होगी। जैसा कि प्रशिक्षण हेतु चयनित सभी 32 संगीत साधक प्रशिक्षु जो स्नातक स्तर के हैं, वे अपनी संगीत कला में और अधिक पारंगतता प्राप्त करेंगे। यह कार्यशाला वस्तुतः प्रोफेशनल सिंगर ग्रूमिंग कार्यशाला है। विरासत संवर्द्धन संस्थान के सम्पतलाल दूगड़ ने बताया कि बाहर से आने वाले प्रशिक्षुओं में इलाहाबाद, इन्दौर, रेवा, विदिशा, कोटमा, वाराणसी, मुम्बई, दुर्ग, जयपुर, सासाराम आदि क्षेत्रों से आने अधिकांश प्रशिक्षु आज बीकानेर पहुंच गये हैं। इनके आवास, भोजन व प्रशिक्षण आदि की सारी व्यवस्थाएं टी.एम. ऑडिटोरियम में की गई है।

सुर संगम के अध्यक्ष के. सी. मालू ने बताया कि उक्त संगीत प्रशिक्षण कार्यशाला में प्रथम चार दिन भारत के प्रसिद्ध संगीत गुरु पण्डित भवदीप जयपुर वाले के संचालन और निर्देशन के लिए मुम्बई से पधारेंगे। वे बॉलीवुड के प्रतिष्ठित वॉकल गुरु एवं प्रशिक्षक हैं। जो लाइट म्यूजिक की तकनीक के विशेषज्ञ हैं। मालू ने बताया कि पं. भवदीप प्रोफेशनल सिंगिंग की तकनीक व बॉलीवुड संगीत में विभिन्न रागों के उपयोग का प्रशिक्षण प्रदान करेंगे।

सुर संगम के सचिव मुकेश अग्रवाल ने बताया कि इस कार्यशाला अन्तिम दो दिनों के प्रशिक्षण हेतु विश्व प्रसिद्ध खैरागढ़ संगीत विश्वविद्यालय के पूर्व वाइस चांसलर श्री टी. उन्नीकृष्णन कोचीन से पधार रहें हैं। वे प्रशिक्षुओं को वॉयस मोड्युलेशन तकनीक, बेहतर वॉयस क्वालिटी व वॉयस कल्चर की विशेष तकनीक का प्रशिक्षण देंगे।

कार्यशाला के सफल संयोजना के लिए सुर संगम के अध्यक्ष के.सी. मालू एवं महासचिव मुकेश अग्रवाल आज बीकानेर पधार गये हैं। विरासत संवर्द्धन संस्थान के अध्यक्ष टी. एम. लालानी भी कल फरीदाबाद से स्वयं पधारेंगे। लालानी का मानना है कि संगीत साधना निष्णात व्यक्तियों के लिए भी योग साधना जैसी ही है, और इसमें हमारा योगदान बने, यही उनका व विरासत संवर्द्धन संस्थान के गठन का उद्देश्य है। कार्यशाला के प्रशिक्षु संगीत में विशेष उपलब्धियां हासिल करें, यही कामना व लक्ष्य है। लालानी ने बताया कि संगीत कार्यशाला में उपलब्ध सभी सुविधाएं निःशुल्क है। सभी प्रशिक्षुओं के लिए भोजन व्यवस्था के साथ ही बाहर से समागत प्रशिक्षुओं के लिए आवास व्यवस्था भी निःशुल्क

है।

कार्यशाला का शुभारम्भ सत्र दिनांक 24 मई, शुक्रवार दोपहर 02:30 बजे होगा। कार्यशाला में प्रशिक्षण के दो सत्र प्रतिदिन प्रातः 09:30 बजे से दोपहर 12:30 बजे एवं दोपहर 04:00 बजे से सायं 07:00 बजे तक होंगे। कार्यशाला का समापन सत्र 29 मई, 2024 दोपहर का होगा।

टी. एम. लालानी ने बताया कि बीकानेर के संगीत रसिकों के लिए कार्यशाला में देश भर से

आये कलाकारों की मधुर प्रस्तुतियां भी होगी। शनिवार 25 मई को सायं 08:30 बजे फिल्मी गीत व लोक संगीत तथा 26 मई, रविवार की सायं 08:30 बजे गजल एवं ठुमरी का लुत्फ बीकानेर के सभी कलाप्रेमी ले सकेंगे।

विरासत संवर्द्धन संस्थान के उपाध्यक्ष कामेश्वरप्रसाद सहल, हेमन्त डागा, सम्पतलाल दूगड़, जतनलाल दूगड़ व विरासत के संगीत प्रशिक्षक पण्डित पुखराज शर्मा आदि संस्थान से जुड़े सभी कार्यकर्ता कार्यशाला की पूरी योजना एवं सभी व्यवस्थाओं सहयोग में जुटे हैं।

About the author

THE INTERNAL NEWS

Add Comment

Click here to post a comment

error: Content is protected !!