National News

यूपी के माफिया मुख्तार अंसारी की बांदा जेल में मौत:2005 से सजा काट रहा था; अलग-अलग मामलों में 2 बार उम्रकैद हुई

TIN NETWORK
TIN NETWORK


LIVE यूपी के माफिया मुख्तार अंसारी की बांदा जेल में मौत:2005 से सजा काट रहा था; अलग-अलग मामलों में 2 बार उम्रकैद हुई

बांदाकुछ ही क्षण पहले

मुख्तार को बांदा मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। - Dainik Bhaskar

मुख्तार को बांदा मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है।

यूपी की बांदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी की हार्ट अटैक से मौत हो गई है। गुरुवार शाम को उसे जेल से रानी दुर्गावती मेडिकल कॉलेज ले जाया गया। जेल प्रशासन ने अभी तक कोई बयान नहीं दिया है।

ADVERTISEMENT

वहीं, मऊ और गाजीपुर में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। साथ ही बांदा में भी सुरक्षा के विशेष इंतजाम किए गए हैं। मौके पर बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। DGP मुख्यालय ने भी सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं।

इससे पहले मंगलवार को मुख्तार की तबीयत बिगड़ी थी। 14 घंटे भर्ती रहने के बाद उसे डिस्चार्ज कर दिया गया था। कुछ दिन पहले ही मुख्तार अंसारी ने दावा किया था कि उसे धीमा जहर देकर मारने की कोशिश की जा रही है।

मुख्तार अंसारी के वकील का कहना है कि कुछ देर बाद उनके बारे में जानकारी मिलेगी। मुख्तार के भतीजे और विधायक सुहैब अंसारी ने बताया कि हमें जानकारी मिली है कि उनकी तबीयत खराब है। हम लोग बांदा के लिए निकल रहे हैं।

मुख्तार अंसारी 2005 से सजा काट रहा है। अलग-अलग मामलों में उसे 2 बार उम्रकैद हुई है।

लाइव अपडेट्स

6 मिनट पहले

3 फुटेज देखिए

अस्पताल के बाहर सीमा सुरक्षा बल की एक टुकड़ी तैनात की गई है।

अस्पताल के बाहर सीमा सुरक्षा बल की एक टुकड़ी तैनात की गई है।

मेडिकल कॉलेज के बाहर भारी पुलिस फोर्स मौजूद है।

मेडिकल कॉलेज के बाहर भारी पुलिस फोर्स मौजूद है।

इसी एम्बुलेंस से मुख्तार को मेडिकल कॉलेज ले जाया गया है।

इसी एम्बुलेंस से मुख्तार को मेडिकल कॉलेज ले जाया गया है।

मुख्तार अंसारी की हालत गंभीर होने की खबर मिलते ही उसके समर्थक मोहम्मदाबाद स्थित उसके घर पहुंचने लगे हैं। अफजाल अंसारी भी घर लौट आए हैं।

मुख्तार अंसारी की हालत गंभीर होने की खबर मिलते ही उसके समर्थक मोहम्मदाबाद स्थित उसके घर पहुंचने लगे हैं। अफजाल अंसारी भी घर लौट आए हैं।

जानकारी के मुताबिक जेल में 3 डॉक्टरों का पैनल मुख्तार के स्वास्थ्य पर लगातार नजर बनाए हुए था, लेकिन सेहत में सुधार नहीं हो रहा था। हालत गंभीर होती देख डॉक्टरों ने उसे दोबारा मेडिकल कॉलेज में ही शिफ्ट करना ठीक समझा।

6 मिनट पहले

पेट दर्द की शिकायत पर हुआ था भर्ती

अफजाल अंसारी मंगलवार को बांदा मेडिकल कॉलेज पहुंचे थे। मुख्तार से मुलाकात की थी।

अफजाल अंसारी मंगलवार को बांदा मेडिकल कॉलेज पहुंचे थे। मुख्तार से मुलाकात की थी।

इसके पहले सोमवार रात भी मुख्तार अंसारी की तबीयत बिगड़ गई थी। पेट दर्द की शिकायत पर जेल प्रशासन ने माफिया को सुबह 3 बजकर 55 मिनट पर मेडिकल कॉलेज के ICU में भर्ती कराया था। हालत में सुधार होने के बाद मुख्तार को शाम 6 बजे बांदा जेल में शिफ्ट कर दिया गया था। मुख्तार 14 घंटे अस्पताल में रहा था।

बांदा मेडिकल प्रशासन ने हेल्थ बुलेटिन भी जारी किया था। इसमें बताया था, मुख्तार के पेट में दर्द है। उसे 4-5 दिनों से कब्ज की शिकायत थी। फिलहाल, उसकी हालत स्थिर है। मुख्तार अंसारी के बड़े भाई अफजाल अंसारी बांदा मेडिकल कॉलेज पहुंचे थे। प्रशासन और पुलिस की टीम उनको पीछे के गेट से अंदर ले गई थी।

मुख्तार अंसारी से मिलने के बाद उनके भाई अफजाल अंसारी ने बताया था कि वे होश में हैं। उन्होंने हमसे कहा कि उन्हें खाने में कोई जहरीला पदार्थ दिया गया है। 40 दिन पहले भी एक बार ऐसा हो चुका है। अब दोबारा यह हुआ है। प्रशासन को हम धन्यवाद देना चाहते हैं कि उन्हें समय से अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 3 डॉक्टरों की टीम उनका इलाज कर रही है।

7 मिनट पहले

बेटे उमर ने कहा था- पिता के लिए दुआ करें

मुख्तार के बेटे उमर अंसारी ने फेसबुक पर लिखा था- पिता की हालत बहुत गंभीर है। उनके लिए दुआ करें। उमर अपनी भाभी निखत अंसारी के साथ मेडिकल कॉलेज पहुंचा था। उमर ने कहा था, मैं 900 किलोमीटर दूर से आया हूं। मुझे अपने पिता को शीशे से भी नहीं देखने दिया गया। ये तो जुल्म है, हम कानूनी लड़ाई लड़ेंगे और सर्वोच्च न्यायालय जाएंगे।

हमें सर्वोच्च न्यायालय पर उम्मीद है और हमें न्यायपालिका पर विश्वास है कि वहां से हमें न्याय मिलेगा। मेरी ये कामना है कि वह जल्द ठीक हो जाएं। मेरे 26 साल के जीवन मैं 25 साल उनसे दूर रहा। मैंने होली और दिवाली नहीं देखी, ईद और बकरीद की खुशियां नहीं मनाई। क्योंकि मेरे बाप मेरे पास नहीं थे।

8 मिनट पहले

2005 से जेल में बंद है मुख्तार

यह फुटेज 15 दिसंबर, 2022 की है, जब जेल से निकलते समय मुख्तार ने वहां मौजूद लोगों को सलाम किया था।

यह फुटेज 15 दिसंबर, 2022 की है, जब जेल से निकलते समय मुख्तार ने वहां मौजूद लोगों को सलाम किया था।

फिलहाल, इंटरस्टेट गैंग 191 का सरगना मुख्तार 25 अक्टूबर, 2005 से जेल में बंद है। उसके खिलाफ यूपी, दिल्ली, पंजाब में 65 मुकदमे दर्ज हैं। 2017 में योगी सरकार आने से पहले वो पंजाब की रोपड़ जेल में था। उसे पंजाब से UP लाने के लिए राज्य सरकार सुप्रीम कोर्ट गई थी।

2021 में मुख्तार को बांदा जेल में शिफ्ट किया गया। जेल में उस पर 24 घंटे CCTV कैमरों से निगरानी होती है। रिश्तेदारों से मिलने पर रोक है। सख्ती इतनी है कि जेल में मुख्तार पर नरमी बरतने वाले डिप्टी जेलर वीरेश्वर प्रताप सिंह को सस्पेंड किया जा चुका है।

9 मिनट पहले

17 महीने में मुख्तार को 8 बार हुई सजा

मुख्तार को 17 महीने में 8 बार सजा हो चुकी है। इसमें से 2 उम्रकैद की सजा है। मुख्तार को पहली सजा 23 सितंबर 2022 को हुई थी। वहीं, 8वीं सजा 13 मार्च 2024 को हुई थी। मुख्तार के खिलाफ सजा का सिलसिला 21 नवंबर, 2022 को शुरू हुआ था।

लखनऊ के आलमबाग थाने में 2003 में जेलर को धमकाने के मामले में ADJ कोर्ट ने दोषमुक्त किया। सरकार ने 27 अप्रैल, 2021 को हाईकोर्ट में मामले को चुनौती दी। इसी मामले में उसे पहली बार 7 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई गई।

9 मिनट पहले

दो बार उम्रकैद

10 मिनट पहले

मुख्तार अंसारी को मिली सजा

  • 23 सितंबर 2022 को लखनऊ के हजरतगंज में दर्ज गैंगस्टर एक्ट में 2 साल की कैद और 10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया था।
  • 21 सितंबर 2022 को लखनऊ में सरकारी कर्मचारी को काम से रोकने और धमकाने के मामले में 2 साल की कैद और 10 हजार जुर्माना।
  • 15 दिसंबर 2022 को 1996 में दर्ज गैंगस्टर एक्ट के मामले में गाजीपुर के MP-MLA कोर्ट ने 10 साल की सजा 5 लाख रुपए जुर्माना लगाया।
  • 29 अप्रैल 2023 को कृष्णा नंद राय हत्याकांड और नंदकिशोर रूंगटा अपहरण कांड में लगाए गए गैंगस्टर एक्ट में 10 साल की जेल और 5 लाख जुर्माना।
  • 5 जून 2023 को अवधेश राय हत्याकांड में उम्रकैद हुई थी।
  • 28 अक्टूबर 2023 को कपिल देव सिंह की हत्या मामले में 10 साल की कैद और पांच लाख रुपए जुर्माना लगाया था।
  • 15 दिसंबर 2023 को मुख्तार को रूंगटा धमकी केस में वाराणसी की MP-MLA कोर्ट ने 10 साल की सजा सुनाई थी।

10 मिनट पहले

अंसारी का परिवार

11 मिनट पहले

चुनावी हलफनामे में मुख्तार के पास 22 करोड़ की प्रॉपर्टी

चुनावी हलफनामे बताते हैं कि अंसारी ब्रदर्स अब भी करोड़ों रुपए की प्रॉपर्टी के मालिक हैं। 2017 के विधानसभा चुनाव में दिए शपथ पत्र में मुख्तार अंसारी ने 21.88 करोड़ रुपए की संपत्ति बताई थी। इसमें 3.23 करोड़ रुपए की एग्रीकल्चर लैंड, 4.90 करोड़ की नॉन एग्रीकल्चर लैंड, 12.45 करोड़ की कॉमर्शियल बिल्डिंग और 1.70 करोड़ की रेसिडेंशियल बिल्डिंग शामिल थीं।

वहीं, अफजाल अंसारी ने 2019 के लोकसभा चुनाव में इलेक्शन कमीशन को दिए शपथ पत्र में 13.79 करोड़ रुपए की संपत्ति बताई थी। इसमें 3.36 करोड़ रुपए की एग्रीकल्चर लैंड, 14 लाख की नॉन-एग्रीकल्चर लैंड, 1.53 करोड़ की कॉमर्शियल प्रॉपर्टी शामिल थी।

अफजाल ने प्रॉपर्टी में 1.08 लाख की चल संपत्ति और 12.70 करोड़ रुपए की अचल संपत्ति का दावा किया था। अफजाल अंसारी इस बार सपा के टिकट पर गाजीपुर से लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं।

About the author

THE INTERNAL NEWS

Add Comment

Click here to post a comment

CommentLuv badge

Topics

Translate:

Google News
Translate »
error: Content is protected !!