National News

नवाज शरीफ की विदाई अब तय:आर्मी ने मार्चिंग ऑर्डर दिया, जल्द पाकिस्तान छोड़ लंदन जाएंगे

TIN NETWORK
TIN NETWORK

नवाज शरीफ की विदाई अब तय:आर्मी ने मार्चिंग ऑर्डर दिया, जल्द पाकिस्तान छोड़ लंदन जाएंगे

नवाज शरीफ 3 बार (1990-1993, 1997-1999, 2013-2017) पाकिस्तान के प्रधानमंत्री रह चुके हैं। - Dainik Bhaskar

नवाज शरीफ 3 बार (1990-1993, 1997-1999, 2013-2017) पाकिस्तान के प्रधानमंत्री रह चुके हैं।

पाकिस्तान की सियासत में लगभग 45 साल से सक्रिय रहे पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ का राजनीतिक सफर अब पूरा होने को है। सेना ने नवाज शरीफ के रूप में पाकिस्तान की राजनीति में आखिरी बड़े नाम को भी हाशिये पर डालने की तैयारी कर ली है।

सूत्रों के मुताबिक, आर्मी चीफ आसिम मुनीर ने नवाज को जल्द लंदन लौटने के आदेश दिए हैं। नवाज के करीबी एक भरोसेमंद सूत्र का कहना है कि वे कथित रूप से खराब सेहत का हवाला देकर लंदन वापसी का अपना प्लान जाहिर करेंगे। हालांकि, यह नवाज का राजनीतिक फेयरवेल होने वाला है। नवाज के लंदन लौटने से आर्मी देश के प्रमुख नेताओं पर अपनी पकड़ और मजबूत कर लेगी।

नवाज शरीफ अक्टूबर 2023 में लंदन से पाकिस्तान लौटे थे।

नवाज शरीफ अक्टूबर 2023 में लंदन से पाकिस्तान लौटे थे।

नवाज की विदाई के दो बड़े कारण

  • नवाज मनशेरा सीट से हार गए थे, लाहौर से 50 हजार वोटों से पिछड़ रहे नवाज को बाद में 80 हजार से विजेता घोषित किया गया। यानी नवाज शरीफ का जनाधार बेहद सिकुड़ गया है। उन्हें भी यह पता चल चुका है। हाईकोर्ट में लाहौर सीट पर नवाज की जीत के खिलाफ रिकाउंटिंग की अर्जी लगी है।
  • नवाज शरीफ की बेटी मरियम शरीफ को पंजाब सूबे का मुख्यमंत्री बनाया जा चुका है। भाई शहबाज शरीफ अभी पाकिस्तान के प्रधानमंत्री हैं, ऐसे में आर्मी ने नवाज शरीफ को दो टूक कहा है कि अब उनका परिवार राजनीतिक रूप से सेट हो गया है, उन्हें पाकिस्तान से रुखसत हो जाना चाहिए।
तस्वीर में शाहबाज शरीफ (बाएं), बीच में मरियम नवाज और नवाज शरीफ (दाएं)।

तस्वीर में शाहबाज शरीफ (बाएं), बीच में मरियम नवाज और नवाज शरीफ (दाएं)।

3 बार पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बने
नवाज पहली बार 1990-1993 तक पाकिस्तान के प्रधानमंत्री रहे। दूसरी बार वे 1997-1999 तक फिर PM बने। कुछ वक्त बाद ही उनका सेना से टकराव शुरू हो गया। अगले ही साल पाकिस्तान ने परमाणु परीक्षण किया। 1999 में परवेज मुशर्रफ ने राष्ट्रपति बनने के लिए उनका तख्तापलट कर दिया।

साल 2000 में नवाज शरीफ और उनके परिवार को देश से निर्वासित कर सऊदी अरब भेज दिया गया। वे 10 साल पाकिस्तान से बाहर रहे।​​ 2013-2017 तक तीसरी बार प्रधानमंत्री बने।

1993 में नवाज शरीफ के पोस्टर के साथ उनके समर्थक।

1993 में नवाज शरीफ के पोस्टर के साथ उनके समर्थक।

पनामा लीक्स घोटाले में नवाज को सजा
2016 में पनामा लीक्स घोटाले में नवाज शरीफ और उनके परिवार के लोगों का भी नाम सामने आया। इसके बाद ये माना गया कि नवाज का राजनीतिक करियर एक तरह से खत्म हो गया है।

जून 2017 में सुप्रीम कोर्ट ने नवाज को भ्रष्ट मानकर प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य घोषित कर दिया। सालभर बाद एक और मामले में कोर्ट ने नवाज के राजनीतिक जीवन पर विराम लगाते हुए राजनीति में भाग लेने या कोई भी सार्वजनिक पद संभालने पर उम्रभर के लिए पाबंदी लगा दी।

इलाज के लिए लंदन गए थे
2018 के आम चुनाव में उनकी पार्टी चुनाव हार गई। इमरान की सरकार बनने के बाद कोर्ट ने 2018 में नवाज को अल-अजीजिया स्टील मिल्स भ्रष्टाचार मामले में दोषी ठहराते हुए 7 साल की सजा सुनाई।

वहीं एवनफील्ड प्रॉपर्टी मामले में उन्हें 11 साल की सजा सुनाई गई और 80 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया गया था। 16 नवंबर 2019 को लाहौर हाईकोर्ट ने नवाज की सजा सस्पेंड करते हुए उन्हें इलाज के लिए विदेश जाने की इजाजत दी। वो लंदन चले गए और अक्टूबर 2023 में पाकिस्तान वापस लौटे।

About the author

THE INTERNAL NEWS

Add Comment

Click here to post a comment

CommentLuv badge

Topics

Translate:

Google News
Translate »
error: Content is protected !!