National News

इजराइली हमले में मौत के बाद महिला की डिलीवरी:डॉक्टरों ने जिंदा बच्ची को गर्भ से निकाला; इसके पिता-बहन भी एयर स्ट्राइक में मारे गए

TIN NETWORK
TIN NETWORK

इजराइली हमले में मौत के बाद महिला की डिलीवरी:डॉक्टरों ने जिंदा बच्ची को गर्भ से निकाला; इसके पिता-बहन भी एयर स्ट्राइक में मारे गए

नई दिल्ली

बच्ची को राफा के एक अस्पताल में इनक्यूबेटर में रखा गया था। उसकी छाती पर लगे टेप पर शहीद सबरीन अल-सकानी की बच्ची लिखा गया। - Dainik Bhaskar

बच्ची को राफा के एक अस्पताल में इनक्यूबेटर में रखा गया था। उसकी छाती पर लगे टेप पर शहीद सबरीन अल-सकानी की बच्ची लिखा गया।

गाजा के राफा शहर में रविवार को इजराइली हमले में मौत के बाद एक महिला के गर्भ से जिंदा बच्ची को निकाला गया है। फिलिस्तीन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि महिला 30 हफ्ते की प्रेग्नेंट थीं।

डॉक्टरों ने इमरजेंसी सी-सेक्शन डिलीवरी के जरिए बच्ची को निकाला। जन्म के समय बच्ची का वजन 1.4 किलोग्राम (3.09 पाउंड) था। उसकी हालत स्थिर है। धीरे-धीरे उसकी सेहत में और सुधार हो रहा है।

महिला की पहचान सबरीन अल-सकानी के रूप में की गई है। अधिकारियों ने बताया कि दो घरों पर इजराइली एयर स्ट्राइक में बच्ची की मां के अलावा उसके पिता और बहन समेत 19 लोगों की मौत हो गई थी। इनमें एक ही परिवार के 13 बच्चे शामिल हैं।

डॉक्टर ने बताया कि बच्ची को तीन से चार हफ्ते तक हॉस्पीटल में ही रखा जाएगा।

डॉक्टर ने बताया कि बच्ची को तीन से चार हफ्ते तक हॉस्पीटल में ही रखा जाएगा।

बड़ी बहन बच्ची का नाम रूह रखना चाहती थी
नवजात बच्ची के चाचा रामी अल-शेख ने बताया कि उसके जन्म को लेकर उसकी बड़ी बहन मलक काफी खुश थी। वह अपनी छोटी बहन का नाम रूह रखना चाहती थी, जिसका अरबी में अर्थ आत्मा होता है। हालांकि, छोटी बहन के दुनिया में आने से पहले ही मलक की एयर स्ट्राइक में मौत हो गई।

राफा के अस्पताल में बच्ची की देखभाल कर रहे डॉक्टर मोहम्मद सलामा ने बताया कि नवजात को एक अन्य शिशु के साथ इनक्यूबेटर में रखा गया है। उसे तीन से चार हफ्ते तक हॉस्पिटल में ही रखा जाएगा।

डॉक्टर ने कहा कि सबसे बड़ी त्रासदी यह है कि बच्ची बच तो गई, लेकिन अनाथ पैदा हुई। इसलिए हम देखेंगे कि उसे कहां भेजा जाए, उसके चाची या चाचा या दादा-दादी के पास।

खान युनिस से 180 शव बरामद
खान युनिस में इजराइल की कार्रवाई के बाद वापस लौटे लोगों को नासेर अस्पताल में कई सौ कब्र मिली हैं। इनमें से अब तक 180 लोगों की लाश बरामद की गई है। आरोप है कि इन्हें इजराइल की सेना ने मारकर दफनाया था।

इजराइल और हमास के बीच 7 अक्टूबर 2023 से जंग जारी है। इसी दिन, हमास के लड़ाकों ने इजराइल में घुसकर हमले किए थे और इसमें 1200 इजराइली नागरिक मारे गए थे। 234 लोगों को किडनैप किया गया था।​​​​​​

फिलिस्तीनी स्वास्थ्य अधिकारियों के मुताबिक, इजराइल के हमले से गाजा में 34,000 से ज्यादा फिलिस्तीनी मारे गए हैं। पिछले 24 घंटों में गाजा पर इजराइली सैन्य हमलों में 48 फिलिस्तीनियों की मौत हुई और 79 लोग घायल हो गए।

नासेर अस्पताल में शवों को कब्र से निकालकर उनका सम्मानजनक अंतिम संस्कार किया जा रहा है…

About the author

THE INTERNAL NEWS

Add Comment

Click here to post a comment

CommentLuv badge

Topics

Google News
error: Content is protected !!