Bikaner update

बीकानेर में शिव प्लाजा मॉल की सीढ़ियों में रेलिंग नहीं होने के कारण गिरकर व्यक्ति चोटिल,नियमों की अवहेलना के चलते घटी दुर्घटना

आखिर क्यों बीकानेर में हो रहे अवैध निर्माण को लेकर नोटिस जारी नही?

क्यों अवैध मॉल और भवन में किए गए अतिक्रमण नहीं हटाए जाते?

बीकानेर। नगर निगम अतिक्रमण करने वालों को संरक्षण दे रहा है । यही नहीं नगर निगम अधिकारी शहर में धड़ल्ले से हो रहे अवैध निर्माणों को लेकर नोटिस जारी करने से भी गुरेज कर रहे हैं । कई माल भवन तो अवैध तरीके से निर्बाध रूप से व्यवसायिक काम में ले रहे हैं जिस पर भी प्रशासन और नगर निगम आंखें मूंदे बैठा है । निगम में न केवल अवैध निर्माण में धारा 194 की कार्रवाई पर अघोषित रोक सी लगी हुई है बल्कि जिन भवनों के लिए सीज की कार्रवाई प्रस्तावित हो चुकी है उनको भी सीज करने में टालमटोल की नीति अपनाई जा रही है। बिना अनुमति और नियम विरुद्ध निर्माण कार्यो की शिकायत करने वाले महापौर से लेकर नगर निगम अधिकारियों आयुक्त उपायुक्त तक के चक्कर निकाल रहे हैं मगर उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। बिना अनुमति और नियम विरुद्ध निर्माण कार्य भी निर्बाध रूप से जारी हैं ।

कुछ अतिक्रमणकारी लोग तो आयुक्त का सीधा नाम लेकर निर्माण कार्य में लगे हैं ।
शहर में जगह-जगह बिना अनुमति और नियम विरुद्ध निर्माण कार्य चल रहे हैं। निगम प्रशासन को इसकी जानकारी होने के बाद भी कोई ठोस कार्रवाई नहीं हो रही है। न तो संबंधित को नोटिस भेजे जा रहे हैं और न ही अधिकारी मौके पर पहुंचकर कोई जांच निरीक्षण कर रहे हैं। यही नहीं सीज की कार्रवाई प्रस्तावित हो जाने के बाद भी बिल्डिंगों मॉल और भवन को सीज नहीं किया जा रहा है। जिले के पार्षद लगातार इस अवैध निर्माण की बात महापौर और आयुक्त के समक्ष उठा रहे हैं पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही है।

नगर निगम कर रहा है आरटीआई कानून का उल्लंघन ।

बीकानेर में कई ऐसे मॉल भवन है जो नगर निगम यूआईटी से जारी तमाम नॉर्म्स की पालना सुनिश्चित नही कर रहें है । एक पत्रकार आरटीआई एक्टिविस्ट एडवोकेट ने बीकानेर के शिव प्लाजा , शिव मार्केट सहित अन्य कुछ मॉल की आवासीय से व्यवसायीकरण की तमाम पत्रावली एनओसी तथा व्यावसायिक भवन मॉल के निर्माण स्वीकृति के साथ संलग्न तमाम दस्तावेज की प्रमाणित प्रतिलिपियां नगर निगम से तलब की । कई दिनों तक टालम टोल चलती रही । आरटीआई एक्टिविस्ट स्वयं ने नगर निगम जाकर लगाई गई आरटीआई के संबंध में उपायुक्त से जवाब की चर्चा की । उपायुक्त ने सबंधित आरटीआई प्रभारी को बुलाकर जब आरटीआई रिप्लाई के संबंध में पूछा तो उस आरटीआई प्रभारी का जवाब यह था कि आप तो जानते नगर निगम किसी भी आरटीआई का किसी भी अपील का आमजन को जवाब नही देता है । यानी नगर निगम बीकानेर लगाई गई आरटीआई अपील का जवाब न देकर आरटीआई कानून का खुला उल्लंघन कर रहा है ।
जब आरटीआई एक्टिविस्ट ने बार-बार तलब किया तो जवाब में शिव प्लाजा और शिव मार्केट सहित अन्य माल भवन की तमाम पत्रावलियों की प्रमाणित प्रतिलिपियां उपलब्ध नहीं करवाई गई बल्कि नगर निगम बीकानेर ने यह जवाब देकर पल्ला झाड़ लिया कि शिव प्लाजा और शिव मार्केट सहित अन्य उक्त नाम से कोई भी वर्तमान रिकॉर्ड बीकानेर नगर निगम के पास उपलब्ध नहीं है । जबकि किसी भवन या मॉल का जब रजिस्ट्रेशन होता है तो टाइटल रजिस्ट्रेशन के साथ ही अन्य स्वीकृतियां जारी की जाती है । नगर निगम बीकानेर के दिए गए जवाब से तो यह आशय निकलता है कि बीकानेर में शिव प्लाजा और शिव मार्केट सहित अन्य मार्केट (नगर निगम के अनुसार जिनका वर्तमान रिकॉर्ड उपलब्ध नहीं है । ) जिनकी जानकारी चाह गई यह सब अवैध खड़े हैं । अगर यह अवैध है तो इनको गिराने की कार्रवाई क्यों नहीं अमल में लाई जा रही ।

शिव प्लाजा माल में हुई दुर्घटना

शिव प्लाजा की बात की जाए तो आज ही एक दुर्घटना घटित हुई मार्केट की सीढ़ियों में रेलिंग नहीं लगे होने के कारण । एक व्यक्ति ग्राउंड फ्लोर से बिना रेलिंग की वजह से सीढ़ियों से टकराता हुआ बैसमेंट में गिरकर घायल हो गया । जिसके सर फट गया हाथ टांग अन्य हिस्सों में भी चोटें आई । मॉल मालिक को जब इसकी भनक पड़ी तो उसके बाद उसने तुरत फुरत सीढ़ियों और बेसमेंट पर जहां घायल का खून गिरा था सफाई करवा कर न केवल पल्ला झाड़ लिया बल्कि एंबुलेंस के पहुंचने से पहले ही घायल व्यक्ति को कुछ ले देकर रवाना भी कर दिया । इस बात की भनक पुलिस को भी नही पड़ी ।इससे पहले भी एक मिर्गीग्रस्त व्यक्ति को चौकीदार रखा हुआ था, जिसे मिर्गी का दौरा पड़ने के कारण वह भी सीढ़ियों से गिरकर घायल हुआ था परंतु मॉल मालिक ने मामले को दबा दिया।

शिव प्लाजा तथा शिव मार्केट किसी भी तरह की नॉर्म्स को पूरा नहीं करता है । यहां तक की मार्केट के अंदर वॉशरूम तक नहीं बने हुए हैं । अग्निशमन पार्किंग से लेकर किसी भी प्रकार की सुविधा नहीं है । यहां तक की बेसमेंट में पार्किंग की सुविधा निश्चित की गई थी वहां पर दुकान बनाकर लोगों को अच्छी खासी रकम पगड़ी के साथ किराए पर दे रखी है । यही नहीं मॉल के बाहर करीब 10 फुट से ज्यादा जमीन कब्जे लेकर चौकी का अतिक्रमण कर आम जनता के लिए छोड़ी गई 8 फुट की फुटपाथ को भी अपने कब्जे में ले लिया है । जहां पार्किंग की व्यवस्था कायम की गई है । इसके चलते आम जन को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है । यही नहीं शिव मार्केट के ऊपर छत पर अवैध टावर लगवा देने से पास में संचालित स्कूल के बच्चों के स्वास्थ्य पर इसका असर तो पड़ ही रहा है वही साथ-साथ मार्केट की दुकानदारों को भी टावर से निकलने वाली खतरनाक किरणों रेज का सामना करना पड़ रहा है । जिससे उनके स्वस्थ पर भी इसका असर पड़ा है ।

यही नहीं बीकानेर में इसके अलावा कई ऐसे माल है । जिसमें बिजली कनेक्शन एक मैन मीटर के माध्यम से ही प्रत्येक दुकानदार को सब मीटर लगा कर सप्लाई की जा रही है और बिजली बिल के भुगतान की एवज में मुंह मांगा दुकानदारों से एक यूनिट का 12 रुपए से लेकर 20 रुपए से भी अधिक का बिजली खर्च वसूला जा रहा है । ये तमाम जांच का विषय है । अन्य कमियां है जिसके लिए पत्रकार आरटीआई एक्टिविस्ट एडवोकेट लगातार बीकानेर जन समस्याओं को लेकर प्रयासरत है । बीकानेर में कई आरटीई एक्टिविस्ट बीकानेर की उन तमाम समस्याओं को उजागर कर उसके समाधान को लेकर प्रयासरत है । फिर चाहे वह मुद्दा केईएम रोड चौड़ी का हो , बीकानेर यातायात की बात हो , पुलिस अत्याचार की बात हो, बीकानेर में सड़क पानी बिजली यातायात संबंधी सहित बीकानेर जिले भर में लगे हुए और लगातार लग रहे अवैध मोबाइल टावर से उत्पन्न समस्या इत्यादि के लिए जागरूक आरटीए एक्टिविस्ट काम कर रहे हैं ।

About the author

THE INTERNAL NEWS

Add Comment

Click here to post a comment

CommentLuv badge

Topics

Google News
error: Content is protected !!