DEFENCE, INTERNAL-EXTERNAL SECURITY AFFAIRS

280 KMPH की स्पीड, 60 सेकेंड में 125 टारगेट पर निशाना… अपाचे हेलिकॉप्टर 64E से आसमान में ऐसे ताकत बढ़ा रहा भारत

280 KMPH की स्पीड, 60 सेकेंड में 125 टारगेट पर निशाना… अपाचे हेलिकॉप्टर 64E से आसमान में ऐसे ताकत बढ़ा रहा भारत

भारतीय सेना में जल्द ही छह नए अपाचे हेलीकॉप्टर शामिल होने वाले है. मई माह तक अपाचे हेलीकॉप्टर के पहुंचने की सूचना है. अपाचे एक मल्टी-मिशन हेलीकॉप्टर है, जिसे नवीनतम तकनीकी प्रगति से लैस किया गया है.

280 KMPH की स्पीड, 60 सेकेंड में 125 टारगेट पर निशाना… अपाचे हेलिकॉप्टर 64E से आसमान में ऐसे ताकत बढ़ा रहा भारत

भारतीय सेना में जल्द ही छह नए घातक अपाचे हेलीकॉप्टर शामिल होने वाले है. मई माह तक अपाचे हेलीकॉप्टर के पहुंचने की सूचना है. अपाचे एक शीर्ष स्तरीय मल्टी-मिशन हेलीकॉप्टर है, जिसे नवीनतम तकनीकी प्रगति से लैस किया गया है. अमेरिकी रक्षा विनिर्माण क्षेत्र की प्रमुख कंपनी बोइंग ने भारतीय सेना को दिए जाने वाले अपाचे हेलीकॉप्टर की डिलीवरी जल्द ही करने वाला है. बोइंग की ओर से भारत को कुल छह एएच-64E अपाचे हेलीकॉप्टर मिलना है. अपाचे हेलीकॉप्टर-64E अपाचे की गिनती दुनिया के घातक हेलीकॉप्टरों में की जाती है.

इसकी ताकत का अंदाजा इससे भी लगाया जा सकता है कि ये मिसाइल के साथ-साथ कई उन्नत तकनीक से भी पूरी तरह से लैस रहते हैं. अपाचे हेलीकॉप्टर-64E को दुनिया के प्रमुख लड़ाकू हेलीकॉप्टर में से एक माना जाता है. अपाचे हेलीकॉप्टर-64E की एडवांस तकनीक और शानदार प्रदर्शन, भारतीय सेना की परिचालन तैयारियों और उसकी रक्षा क्षमताओं को और मजबूत बनाने में अहम भूमिका भी निभाएगा.

अपाचे अटैक हेलीकॉप्टर की विशेषता की बात करें तो यह दुनिया की उन्नत किश्म के तकनीक से लैस होने के साथ-साथ इसमें नाइट विजन सेंसर, जीपीएस गाइडेंस और राइफल की भी सुविधा रहती है. इसके अलावा, ये हेलीकॉप्टर दुश्मन के टारगेट को तबाह करने में भी माहिर है. दुश्मन के सीमा में घुसकर हमला करने में भी अपाचे हेलीकॉप्टर-64E सक्षम है.

अपाचे हेलीकॉप्टर-64E  के रायफल से एक बार में 1200 गोलियों की लोडिंग हो सकती है. इसके साथ-साथ ये एंटी टैंक मिसाइल से भी लैस होता है. अपाचे हेलीकॉप्टर-64E के आने से भारत की हवाई ताकत और इंडियन एयर फोर्स दोनों काफी मजबूत होगा. गौरतलब होल कि अभी हाल में ही एक रिर्पोट ग्लोबल फायर के अनुसार भारत की सैन्य चौथे नंबर की ताकतवर सैन्य व्यवस्था है. भारतीय सेना हर तरह से मजबूत होते जा रही है.   

कुल 28 अपाचे हेलीकॉप्टर-64E
भारतीय सशस्त्र बलों को मई 2024 में छह और अपाचे हेलीकॉप्टर-64E के आने के साथ लड़ाकू हेलीकॉप्टरों की कुल संख्या 28 हो जाएगी. भारत पहले से ही 22 अपाचे हेलीकॉप्टर-64E का संचालन कर रहा है. भारतीय सेना के लिए अतिरिक्त छह हेलीकॉप्टरों के कांट्रे्क्ट 2020 में किया गया था, जिसकी अब डिलीवरी होने वाली है. अपाचे को कई देशों में संचालित किया जाता है, ई मॉडल अमेरिकी सेना के लड़ाकू हेलीकॉप्टरों के बेड़े की आधारशिला के रूप में कार्य करता है.अपाचे हेलीकॉप्टर-64E विश्व स्तर पर सबसे परिष्कृत बहुउद्देश्यीय लड़ाकू हेलीकॉप्टर है, जिसका उपयोग अमेरिकी सेना और अंतरराष्ट्रीय सैन्य बलों की बढ़ती श्रृंखला द्वारा किया जा रहा है.

भारत अपनी क्षमताओं के आधार पर अपाचे को चुनने वाला 16वां देश बन चुका है. अपाचे हेलीकॉप्टर-64E एक शीर्ष स्तरीय मल्टी-मिशन हेलीकॉप्टर है, जो नवीनतम तकनीकी प्रगति से सुसज्जित है और इसे विश्व स्तर पर प्रमुख हमलावर हेलीकॉप्टर के रूप में मान्यता प्राप्त है. ये लगभग किसी भी मिशन की आवश्यकता को पूरा करने के लिए क्षमताओं की एक विस्तृत श्रृंखला की पेशकश करने में अद्वितीय भी है. जिसमें बढ़ी हुई शक्ति और उठाने की क्षमता, एकीकृत डिजिटल कनेक्टिविटी, बेहतर सुरक्षा और निर्णय लेने के लिए उन्नत समर्थन शामिल है. 

दुश्मनों से लड़ने में कारगर है अपाचे हेलीकॉप्टर-64E 
अपाचे हेलीकॉप्टर-64E गार्जियन हेलीकॉप्टर का शामिल होना भारतीय वायु सेना के हेलीकॉप्टर बेड़े के आधुनिकीकरण की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है. हेलीकॉप्टर को भारतीय वायु सेना की भविष्य की आवश्यकताओं के अनुरूप अनुकूलित किया गया और पहाड़ी इलाकों में इसकी मजबूत क्षमता होगी. हेलीकॉप्टर गतिरोध सीमा पर सटीक हमले करने और जमीनी खतरों के साथ शत्रुतापूर्ण हवाई क्षेत्र में काम करने के लिए कारगर हैं. डेटा नेटवर्किंग के माध्यम से हथियार प्रणालियों तक युद्धक्षेत्र की तस्वीर प्रसारित करने और प्राप्त करने की इन हेलीकॉप्टरों की क्षमता इसे एक घातक अधिग्रहण बनाती है. ये भविष्य के परिचालन में बढ़त प्रदान करेंगे.  सरकार की “मेक इन इंडिया” पहल से उत्साहित होकर भारत के एयरोस्पेस और रक्षा उद्योग में बढ़ती गतिविधि के बीच यह साझेदारी हुई. भारत की नजर 2025 तक 25 बिलियन अमेरिकी डॉलर के रक्षा उद्योग पर है.

कैसा है अपाचे हेलीकॉप्टर-64E 
अपाचे हेलीकॉप्टर-64E अमेरिका का दो टर्बोशाफ्ट इंजन और चार ब्लेड वाला अटैक हेलीकॉप्टर है. यह हेलीकॉप्टर अपने आगे लगे सेंसर की मदद से रात में उडान भर सकता है. करीब 16 फ़ुट ऊंचे और 18 फ़ुट चौड़े अपाचे हेलीकॉप्टर-64E में उड़ाने के लिए दो पायलट होना ज़रूरी होता है. अपाचे हेलीकॉप्टर के बड़े विंग को चलाने के लिए दो इंजन होते हैं. इस वजह से इसकी रफ़्तार बहुत ज़्यादा होती है. इसकी अधिकतम रफ़्तार 280 किलोमीटर प्रति घंटा है.अपाचे हेलीकॉप्टर का डिज़ाइन ऐसा है कि इसे रडार पर पकड़ना मुश्किल है. अपाचे हेलीकॉप्टर-64E में 16 एंटी टैंक मिसाइल छोड़ने की क्षमता है. हेलीकॉप्टर के नीचे लगी राइफ़ल में एक बार में 30 एमएम की 1200 राउंड गोलियां भरी जा सकती हैं.  इसकी फ़्लाइंग रेंज क़रीब 550 किलोमीटर है. ये एक बार में पौने तीन घंटे तक उड़ने में सक्षम है. 

अपाचे हेलीकॉप्टर-64E की विशेषताएं- 
ये 60 सेकंड के भीतर 128 लक्ष्यों पर हमला करने और उन्हें नष्ट करने में कारगर है.
अत्याधुनिक सेंसर से लैस यह एक साथ 256 गतिशील लक्ष्यों की पहचान आसानी से कर सकता है.
इसमें लक्ष्य प्राप्ति और रात्रि के दृष्टि से सेंसर लगे हैं. 
हेलीकॉप्टर को बैलिस्टिक मिसाइलों के हमलों से बचने के लिए तकनीक से डिज़ाइन किया गया है.
ये किसी भी मौसम की स्थिति में प्रभावी ढंग से काम करता है. 

Topics

Translate:

Google News
Translate »
error: Content is protected !!