ACCIDENT / CRIME / BLAST / CASUALTY / MISCELLANEOUS / FEATURES / MURDER / SUICIDE

जम्मू-कश्मीर आतंकी हमले में जयपुर के 4 लोगों की मौत:कपड़ा कारोबारी परिवार सहित वैष्णो देवी के दर्शन करने गए थे

TIN NETWORK
TIN NETWORK

जम्मू-कश्मीर आतंकी हमले में जयपुर के 4 लोगों की मौत:कपड़ा कारोबारी परिवार सहित वैष्णो देवी के दर्शन करने गए थे

चौमूं (जयपुर)

पूजा, ममता, राजेंद्र और लिवांश की मौत हो गई है। पवन कटरा (जम्मू) के हॉस्पिटल में भर्ती हैं।

जम्मू-कश्मीर में हुए आतंकी हमले में 10 श्रद्धालुओं की मौत हो गई। इसमें से एक बच्चे सहित 4 लोग चौमूं (जयपुर) थाना इलाके के वार्ड नंबर 5 के पांच्यावाली ढाणी और हरमाड़ा थाना क्षेत्र (जयपुर) की अजमेरा की ढाणी के रहने वाले हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह से ठीक एक घंटे पहले आतंकियों ने वारदात को अंजाम दिया था।

पवन सैनी, उनकी पत्नी पूजा और बेटा लिवांश (टीटू)। आतंकी हमले में पूजा और लिवांश की मौत हो गई है, जबकि पवन घायल हैं।

मृतकों में सभी एक ही परिवार के सदस्य
जयपुर के डीसीपी वेस्ट अमित कुमार ने बताया- आतंकी हमले में मारे गए चारों लोग एक ही परिवार के सदस्य हैं। हमले में चौमूं (जयपुर) के वार्ड 5 की पांच्यावाली ढाणी निवासी राजेंद्र सैनी (42) पुत्र हनुमान सहाय सैनी और उनकी पत्नी ममता सैनी (40) की मौत हो गई।

वहीं राजेंद्र के बड़े भाई ओमप्रकाश की बेटी हरमाड़ा थाना क्षेत्र की अजमेरा की ढाणी निवासी पूजा सैनी (30) और पूजा के बेटे लिवांश उर्फ किट्‌टू (2) की मौत हुई है। पूजा के पति पवन सैनी (32) गम्भीर रूप से घायल हैं। उनका इलाज कटरा के हॉस्पिटल में चल रहा है।

राजेंद्र सैनी के बड़े भाई ओमप्रकाश सैनी ने बताया- छोटा भाई राजेंद्र चौमूं के सरकारी हॉस्पिटल के पीछे शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में रेडीमेड कपड़ों की दुकान चलाता था। जबकि मेरा दामाद पवन अपने गांव (अजमेरा की ढाणी, हरमाड़ा) में ई-मित्र की दुकान संचालित करता है।

चौमूं (जयपुर) की पांच्यावाली ढाणी में राजेंद्र सैनी का मकान। जम्मू-कश्मीर में हुए आतंकी हमले में राजेंद्र की मौत हो गई।

5 जून को वैष्णो देवी के दर्शन करने निकला था परिवार
ओमप्रकाश ने बताया- मेरी बेटी पूजा, दामाद पवन, दोहिता लिवांश, छोटा भाई राजेंद्र और उसकी पत्नी ममता वैष्णो देवी के दर्शन करने गए थे। सभी लोग 5 जून को पांच्यावाली ढाणी स्थित घर से कार बुक कर जयपुर रेलवे स्टेशन पहुंचे थे।

वहां से ट्रेन से जम्मू पहुंचे थे। जम्मू से वे अरुण ट्रैवल्स की तीर्थयात्रा बस में सवार हुए वैष्णो देवी के दर्शन किए। इसके बाद उसी बस से शिव खोड़ी में उन्होंने दर्शन किए। शिव खोड़ी से लौटते वक्त आतंकियों ने बस पर फायरिंग कर दी। हादसे में पूजा, लिवांश, राजेंद्र और ममता की मौत हो गई। हमें रविवार रात 9:15 बजे एक रिश्तेदार ने घटना की सूचना दी।

ओमप्रकाश ने बताया कि हादसे में बेटी और दोहिते की मौत हो गई। छोटा भाई और उसकी पत्नी भी नहीं रहे।

मुआवजा और मृतक आश्रित को सरकारी नौकरी देने की मांग
ओमप्रकाश ने आतंकियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। साथ ही मुआवजा देने और परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की मांग की है।

3 बच्चों के सिर से उठा माता-पिता का साया
राजेंद्र और ममता के तीन बच्चे हैं। सबसे बड़ी बेटी वर्षा (21) बीएड कर रही है। दूसरे नंबर का बेटा राहुल (19) कॉलेज की पढ़ाई कर रहा है। जबकि सबसे छोटा बेटा लक्की (17) स्कूल की पढ़ाई कर रहा है। तीनों बच्चों के सिर से माता पिता का साया उठ गया।

देर रात तक लाए जाएंगे शव
चौमूं एसडीएम दिलीप सिंह राठौड़ ने बताया- जम्मू प्रशासन से बातचीत हुई है। शव ट्रेन से लाए जाएंगे। देर रात तक शव चौमूं पहुंच जाएंगे। फिलहाल चौमूं से परिजन जम्मू के कटरा के लिए रवाना हुए हैं। मंगलवार को अंतिम संस्कार किया जाएगा। राजेंद्र और ममता की मौत की खबर उनके बच्चों को नहीं दी गई है।

मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने घटना को लेकर दुख जताया है।

तीर्थयात्रियों की इसी बस पर आतंकी हमला हुआ था। पहले फायरिंग की गई। इसके बाद बस खाई में गिर गई।

शाम 6 बजे शुरू की फायरिंग
रियासी (जम्मू-कश्मीर) की SSP मोहिता शर्मा के मुताबिक, आतंकियों ने कंदा इलाके में शिव खोड़ी से कटरा जा रही बस पर रविवार शाम करीब 6 बजे ओपन फायर किया था। इसमें ड्राइवर घायल हुआ और उसका बस से कंट्रोल खो गया। इसके चलते बस खाई में गिरी। चश्मदीदों के मुताबिक, 2 आतंकी घटनास्थल पर थे। आतंकवादी हाईवे पर बस का इंतजार कर रहे थे। ऐसा लग रहा है कि उन्होंने इस बस को इसलिए निशाना बनाया है​ कि इसमें यात्री जम्मू-कश्मीर के बाहर के थे। माना जा रहा है कि पाक के आतंकी समूह जम्मू-कश्मीर में दोबारा आतंक फैलाना चाहते हैं।

चौमूं विधायक डॉ. शिखा मील बराला पीड़ित परिवार से मिलने चौमूं की पांच्यावाली ढाणी पहुंचीं। उन्होंने परिवार को सांत्वना दी।

भाजपा नेता रामलाल शर्मा ने ट्वीट कर आतंकी हमले की निंदा की और चौमूं के परिवार के 4 लोगों के लापता होने की जानकारी दी थी।

पूर्व विधायक ने CM से बात की
चौमूं के पूर्व विधायक रामलाल शर्मा ने CM भजनलाल से बात की है। इधर, रामलाल शर्मा ने परिजनों को भी ढांढस बंधाया है। सीएम के निर्देश के बाद प्रशासन तत्काल सक्रिय हो गया है।

तस्वीर चौमूं (जयपुर) के राजेंद्र सैनी और उनकी पत्नी ममता की है। आतंकी हमले में दोनों की मौत हो गई।

45 यात्री सवार थे बस में
बताया जा रहा है कि बस में 45 यात्री सवार थे। आतंकियों ने बस पर फायरिंग कर दी। इससे ड्राइवर ने बस पर नियंत्रण खो दिया और बस खाई में जा गिरी। सुरक्षा अधिकारियों ने बताया कि तीर्थ यात्री शिव खोड़ी मंदिर जा रहे थे। बस पर पोनी इलाके के तेरयाथ गांव में हमला हुआ।

आतंकी हमले में पवन का 2 साल का बेटा लिवांश भी नहीं बचा।

सेना जैसी वर्दी पहनी थी
बस में सवार घायलों ने बताया कि आतंकियों ने सेना जैसी वर्दी पहनी थी। उन्होंने मुंह बांध रखा था। बस जैसे ही मोड़ पर आई, अचानक गोलियां चलने लगीं। बस के खाई में गिरने से पहले आतंकियों ने 25 से 30 गोलियां चलाई थीं। बस में सफर कर रहे यूपी के दूसरे घायल श्रद्धालु ने बताया कि आतंकी बस के गिरने के बाद भी गोलियां चलाते रहे। बस शाम को 4 बजे चलनी थी, लेकिन 5:30 बजे चली थी। बस के लेट होने को लेकर भी जांच की जा रही है। मौके पर पुलिस, आर्मी और CRPF की एक संयुक्त अस्थाई सुरक्षाबल टीम तैयार कर हमलावरों को पकड़ने की कोशिश की जा रही है। सर्च ऑपरेशन के लिए अलग से 5 टीमें बनाई गई हैं। रविवार शाम से शुरू हुआ सर्च ऑपरेशन सोमवार सुबह भी लगातार जारी है।

कलेक्टर ने कहा- शवों को लाने का हो रहा इंतजाम
जयपुर जिला कलेक्टर प्रकाश राजपुरोहित की ओर से जम्मू-कश्मीर जिला प्रशासन से बात चल रही है। जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन की ओर से राजेंद्र और पवन के घरों पर टीमें भेज दी गई हैं।

हमले और सर्च ऑपरेशन की तस्वीरें

हमले में मारे गए लोगों के शव घटनास्थल पर बिखरे पड़े थे। स्थानीय लोगों ने घायलों को बचाने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया।

हमले में ड्राइवर घायल हो गया और उसका बस से नियंत्रण खो गया, जिससे बस खाई में गिर गई।

तस्वीर बस के खाई में गिरने के बाद चलाए गए रेस्क्यू ऑपरेशन की है।

आतंकियों ने बस पर ओपन फायर किया था। घटनास्थल पर गोलियों के कार्ट्रिज बरामद हुए हैं।

सोमवार सुबह सबूत जुटाने के लिए FSL की टीम खाई में नीचे उतरी।

सेना के अधिकारी इलाके की निगरानी हेलिकॉप्टर से भी कर रहे हैं। हालांकि, अभी तक कुछ संदिग्ध नहीं दिखा है।

सर्च ऑपरेशन के लिए बनाई गई टीम ने हमलावरों को घने जंगल में ढूंढने के लिए ड्रोन का सहारा लिया।

पिछले महीने भी आतंकी हमले में जयपुर के लोग बने थे निशाना
पिछले महीने जम्मू-कश्मीर के पहलगाम में जयपुर से घूमने गए जयपुर की फरहा खान (35) और उनके पति तबरेज खान (38) पर गोली चलाई थी। आतंकवादियों ने यानेर इलाके के एक रिसॉर्ट में उनके ऊपर फायरिंग कर दी थी। दोनों घायलों को अनंतनाग के जीएमसी अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

2 साल पहले हनुमानगढ़ के विजय को गोली मारी थी
कश्मीर में 2 साल पहले भी राजस्थान के हनुमानगढ़ के रहने वाले विजय कुमार को आतंकवादियों ने बैंक में घुसकर गोली मारी थी। विजय कुमार कुलगाम जिले के अरेह मोहनपोरा स्थित इलाकाई देहाती बैंक (EDB) में मैनेजर थे। मौत के चार महीने पहले ही उनकी शादी हुई थी। शादी के 10 दिन बाद ही विजय ड्यूटी पर लौट गए थे। 

About the author

THE INTERNAL NEWS

Add Comment

Click here to post a comment

error: Content is protected !!