DEFENCE, INTERNAL-EXTERNAL SECURITY AFFAIRS INTERNATIONAL NEWS

आसिफ अली जरदारी पाकिस्तान के 14वें राष्ट्रपति बने:इमरान के कैंडिडेट को 230 वोट से हराया, 8 साल जेल में रहे, मुशर्रफ की तानाशाही खत्म की

आसिफ अली जरदारी पाकिस्तान के 14वें राष्ट्रपति बने:इमरान के कैंडिडेट को 230 वोट से हराया, 8 साल जेल में रहे, मुशर्रफ की तानाशाही खत्म की

इस्लामाबाद

पाकिस्तान में शनिवार को हुए राष्ट्रपति चुनाव में मतदान करते आसिफ अली जरदारी। - Dainik Bhaskar

पाकिस्तान में शनिवार को हुए राष्ट्रपति चुनाव में मतदान करते आसिफ अली जरदारी।

पाकिस्तान में आज राष्ट्रपति पद के चुनाव में आसिफ अली जरदारी ने जीत हासिल की है। जरदारी पाकिस्तान के 14वें राष्ट्रपति बन गए हैं। उन्होंने इमरान खान के कैंडिडेट महमूद खान अचकजई को 230 वोटों से हराया। जरदारी को 411 वोट मिले, जबकि अचकजई सिर्फ 118 वोट हासिल कर पाए।

नवाज की पार्टी PML-N और बिलावल की पार्टी PPP ने मिलकर जरदारी को उम्मीदवार बनाया था। वे साल 2008 में भी राष्ट्रपति बने थे। वहीं, इमरान समर्थक SIC पार्टी ने अचकजई को राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाया था।

राष्ट्रपति चुनाव में मतदान करते हुए पाकिस्तान नेशनल असेंबली के कुछ सदस्यों ने इमरान खान जिंदाबाद के नारे लगाए। हालांकि जरदारी का राष्ट्रपति बनना पहले से तय माना जा रहा था।

इमरान खान के समर्थन में संसद में नारेबाजी करते PTI समर्थक सांसद फैजल जावेद।

इमरान खान के समर्थन में संसद में नारेबाजी करते PTI समर्थक सांसद फैजल जावेद।

जरदारी को 5 पार्टियों का समर्थन मिला
जरदारी को अपनी पार्टी PPP के अलावा नेशनल असेंबली में नवाज की पार्टी PML-N और 3 अन्य पार्टियां MQM-P, BAP, IPP का समर्थन मिला। वहीं, मौलाना फजल-उर-रहमान की JUI-F पार्टी आम चुनाव में धांधली का आरोप लगाते हुए संसद से जुड़े सभी इलेक्शन बायकॉट कर रही है। ऐसे में उन्होंने राष्ट्रपति चुनाव में हिस्सा नहीं लिया।

पाकिस्तान में प्रधानमंत्री की तरह ही राष्ट्रपति बनने के लिए उम्मीदवार का मुस्लिम होना जरूरी होता है। इस चुनाव में पाकिस्तान की नेशनल असेंबली (संसद) और पाकिस्तान के राज्यों से चुने गए सदस्यों ने वोट डाला। चुनाव के लिए वोटिंग सुबह 10:30 बजे शुरू हुई, जो शाम 4:30 तक चली। राष्ट्रपति चुनावों के लिए सीक्रेट बैलट से वोटिंग हुई।

पाकिस्तानी मीडिया द डॉन के मुताबिक, रविवार को नए राष्ट्रपति पद की शपथ लेंगे। इससे पहले शुक्रवार को राष्ट्रपति आरिफ अल्वी को गार्ड ऑफ ऑनर के साथ पद से फेयरवेल दिया गया था।

कौन हैं पाकिस्तान के अगले राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी?
आसिफ अली जरदारी पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हैं। वो देश की पहली महिला प्रधानमंत्री रहीं बेनजीर भुट्टों के पति और PPP चेयरमैन बिलावल भुट्टो के पिता हैं। जरदारी को पाकिस्तान में मिस्टर 10% कहा जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि वे बेनजीर की सरकार के दौरान किसी भी प्रोजेक्ट की शुरुआत या सरकार से लोन की इजाजत दिलवाने के बदले 10% के कमीशन की मांग करते थे।

भ्रष्टाचार, बैंक फ्रॉड, किडनैपिंग और हत्या के आरोपों में जरदारी ने करीब साढ़े 8 साल जेल की सजा काटी है। बेनजीर ने अपनी राजनीतिक वसीयत में जरदारी को पार्टी नेता के रूप में अपना उत्तराधिकारी नामित किया था।

2007 में भुट्टो की हत्या के बाद नवाज की पार्टी PML-N के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था और जनरल परवेज मुशर्रफ को सत्ता से बेदखल कर दिया था। इसके बाद 6 सितंबर 2008 को जरदारी पाकिस्तान के राष्ट्रपति बने थे।

पाकिस्तान की नेशनल असेंबली में राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए वोट डालने से पहले समर्थकों का अभिवादन करते जरदारी।

पाकिस्तान की नेशनल असेंबली में राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए वोट डालने से पहले समर्थकों का अभिवादन करते जरदारी।

कौन हैं महमूद खान अचकजई जिन्हें इमरान खान ने उम्मीदवार बनाया था
76 साल के महमूद खान अचकजई पाकिस्तान में पश्तून नेता और पश्तूनख्वा मिल्ली अवामी पार्टी (PKMAP) के चेयरमैन हैं। पिता अब्दुल समद खान अचकजई की मौत के बाद उन्होंने राजनीति में कदम रखा। 1989 में उन्होंने अपनी पार्टी पश्तूनख्वा मिल्ली अवामी पार्टी का गठन किया था।

वे PML-N के सपोर्ट से पहली बार 1993 में सांसद बने थे। 2013 में उनके सामने केयरटेकर प्रधानमंत्री बनने का प्रस्ताव रखा गया था। हालांकि अचकजई ने इसे ठुकरा दिया क्योंकि वो 2013 के आम चुनाव लड़ना चाहते थे। 8 फरवरी को हुए संसदीय चुनाव में अचकजई ने बलूचिस्तान के किला अब्दुल्ला-सह-चमन में NA-266 सीट से जीत हासिल की।

इमरान समर्थक राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार महमूद खान अचकजई। (फाइल)

इमरान समर्थक राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार महमूद खान अचकजई। (फाइल)

Topics

Translate:

Google News
Translate »
error: Content is protected !!