DEFENCE, INTERNAL-EXTERNAL SECURITY AFFAIRS

दावा- RAW ने आतंकी पन्नू की हत्या की प्लानिंग की:पूर्व CRPF अधिकारी विक्रम यादव को सौंपा था ऑपरेशन; भारत बोला- आरोप बेबुनियाद

दावा- RAW ने आतंकी पन्नू की हत्या की प्लानिंग की:पूर्व CRPF अधिकारी विक्रम यादव को सौंपा था ऑपरेशन; भारत बोला- आरोप बेबुनियाद

कनाडा में रह रहा खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नू अलग देश की मांग के साथ कई बार भारत को धमकियां दे चुका है। (फाइल) - Dainik Bhaskar

कनाडा में रह रहा खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नू अलग देश की मांग के साथ कई बार भारत को धमकियां दे चुका है। (फाइल)

खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नू की हत्या की साजिश में भारतीय जांच एजेंसी RAW (रिसर्च एंड एनालिसिस विंग) का हाथ था। अमेरिकी मीडिया वॉशिंगटन पोस्ट ने अपनी रिपोर्ट में यह दावा किया है। रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिकी और भारतीय सुरक्षा अधिकारियों ने बताया कि पन्नू की हत्या की पूरी प्लानिंग RAW के एक सीनियर अधिकारी विक्रम यादव ने की थी।

पन्नू को मारने के लिए विक्रम ने एक हिट टीम को काम पर रखा था। यादव ने पन्नू के बारे में भारतीय एजेंट निखिल गुप्ता को जानकारी भेजी, जिसमें उसके न्यूयॉर्क में होने के बारे में पता चला था। इसके बाद निखिल गुप्ता ने पन्नू को मारने के लिए एक एजेंट से संपर्क किया। हालांकि प्लानिंग सफल होने से पहले ही निखिल गुप्ता को गिरफ्तार कर लिया गया।

वॉशिंगटन पोस्ट की इस रिपोर्ट पर भारत की प्रतिक्रिया भी सामने आई है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रणधीर जायसवाल ने कहा, “रिपोर्ट में एक गंभीर मामले को लेकर भारत पर गलत और बेतुके आरोप लगाए गए हैं।”

जायसवाल ने आगे कहा, “भारत सरकार ने इस मामले की जांच के लिए हाई-लेवल कमेटी का गठन किया है। यह कमेटी अमेरिका की चिंताओं के आधार पर संगठित अपराधियों और आतंकियों के नेटवर्क की जांच कर रही है। इन सबके बीच मामले को लेकर अटकलें लगाना या गैर-जिम्मेदाराना टिप्पणियां करना सही नहीं हैं।”

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रणधीर जायसवाल ने कहा है कि पन्नू मामले की जांच के बीच इस पर गैर-जिम्मेदाराना टिप्पणियां करना गलत है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रणधीर जायसवाल ने कहा है कि पन्नू मामले की जांच के बीच इस पर गैर-जिम्मेदाराना टिप्पणियां करना गलत है।

RAW चीफ ने पन्नू की हत्या का प्लान अप्रूव किया
वॉशिंगटन पोस्ट के मुताबिक, अमेरिकी इंटेलिजेंस एजेंसियों ने यह भी बताया कि पन्नू को मारने के लिए चलाए गए ऑपरेशन को RAW के तत्कालीन चीफ समंत गोयल ने अप्रूव किया था। इस ऑपरेशन की जानकारी रखने वाले कुछ भारतीय सुरक्षा अधिकारियों ने भी अमेरिकी मीडिया के सामने इस दावे की पुष्टि की।

उन्होंने बताया कि गोयल के ऊपर विदेशों में मौजूद खालिस्तानी आतंकियों को खत्म करने का दबाव था। रिपोर्ट में इस बात की भी आशंका जताई गई है कि RAW की इस प्लानिंग की जानकारी भारत के NSA अजीत डोभाल के पास भी थी। हालांकि इसके कोई सबूत नहीं मिले हैं।

PM मोदी के अमेरिका दौरे के वक्त हुई प्लानिंग
वॉशिंगटन पोस्ट ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि पिछले साल जून में PM मोदी अमेरिका के दौरे पर थे। तभी भारत की खुफिया एजेंसी RAW के अधिकारी पन्नू को मारने के लिए हिट टीम हायर कर रहे थे।

विक्रम यादव ने निखिला गुप्ता को भेजे अपने मैसेज में लिखा था कि पन्नू की हत्या हमारी प्राथमिकता है। विक्रम ने ही पन्नू का न्यूयॉर्क का एड्रेस निखिल को भेजा था। उन्होंने कहा था कि जैसे ही हिट टीम इस बात की पुष्टि करे कि पन्नू अपने घर में मौजूद है, उसे मार दिया जाए।

वॉशिंगटन पोस्ट के मुताबिक, RAW एशिया, यूरोप और नॉर्थ अमेरिका में भारत के कथित दुश्मनों के खिलाफ कैंपेन चला रहा है। पन्नू को मारने की यह साजिश इसी कैंपेन का हिस्सा थी। यह ऑपरेशन उसी वक्त प्लान किया जा रहा था जब कनाडा में एक और खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या हो गई।

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पिछले साल जून में अमेरिका के दौरे पर गए थे। अमेरिकी मीडिया ने दावा किया है कि RAW ने इसी दौरान पन्नू की हत्या की साजिश रची थी।

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पिछले साल जून में अमेरिका के दौरे पर गए थे। अमेरिकी मीडिया ने दावा किया है कि RAW ने इसी दौरान पन्नू की हत्या की साजिश रची थी।

मोदी सरकार के दुश्मनों को टारगेट कर रही RAW
अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक, इस ऑपरेशन के पीछे भी विक्रम यादव का ही हाथ था। रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया है कि भारत की खुफिया एजेंसी की तरफ से विदेश में मोदी सरकार के खिलाफ काम करने वाले सिखों की जासूसी और उन्हें परेशान करने के मामलों में बढ़ोतरी हुई है।

इसकी वजह से ऑस्ट्रेलिया, जर्मनी और ब्रिटेन जैसे देशों से RAW के एजेंट्स की गिरफ्तारी के मामले भी सामने आए। इसके अलावा कई बार इन खुफिया अधिकारियों को देश से निकाला भी गया है।

भारत से रिश्ते बिगाड़ना नहीं चाहता अमेरिका
अधिकारियों ने कहा कि पिछले जुलाई में व्हाइट हाउस और भारत के अधिकारियों के बीच एक हाई-लेवल मीटिंग हुई थी। इस दौरान चर्चा की गई थी कि दोनों देशों के बीच रिश्तों को खतरे में डाले बिना इस मसले से कैसे निपटा जाए। इस बैठक में CIA के डायरेक्टर विलियम बर्न्स भी शामिल थे।

हालांकि अमेरिका ने अब तक किसी के भी खिलाफ कोई प्रतिबंध या पेनल्टी नहीं लगाई है। वॉशिंगटन पोस्ट के मुताबिक अमेरिका के जस्टिस डिपार्टमेंट और FBI ने पिछले साल पन्नू के मामले की चार्जशीट में विक्रम यादव का नाम शामिल करने की वकालत की थी। अगर ऐसा होता तो RAW सीधे तौर पर हत्या की साजिश की जांच का हिस्सा बन जाती।

यह तस्वीर न्यूयॉर्क पुलिस ने कोर्ट में पेश की गई चार्जशीट में लगाई थी। चार्जशीट में कहा गया थी कि यह रकम मर्डर के लिए एडवांस के तौर पर दी गई थी।

यह तस्वीर न्यूयॉर्क पुलिस ने कोर्ट में पेश की गई चार्जशीट में लगाई थी। चार्जशीट में कहा गया थी कि यह रकम मर्डर के लिए एडवांस के तौर पर दी गई थी।

अमेरिकी चार्जशीट में नहीं था विक्रम यादव या RAW का नाम
दरअसल, 29 नवंबर 2023 को पन्नू पर हमले के मामले में न्यूयॉर्क पुलिस की चार्जशीट सामने आई थी। इसमें भारतीय नागरिक निखिल गुप्ता पर पन्नू की हत्या की साजिश का आरोप था। इसमें लिखा था कि निखिल गुप्ता को CC-1 (पूर्व CRPF अधिकारी) ने पन्नू की हत्या की प्लानिंग करने को कहा था।

हालांकि, इस चार्जशीट में CC-1 के नाम का खुलासा नहीं किया गया था। इसके अलावा यह भी नहीं लिखा गया था कि CC-1 पूर्व CRPF अधिकारी होने के साथ RAW का एजेंट भी है। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि बाइ़डेन प्रशासन ने हत्या की साजिश से जुड़ी दूसरी जानकारियों को भी फैलने से रोकने की कोशिश की।

व्हाइट हाउस के अधिकारियों ने अप्रैल की शुरुआत में मोदी सरकार को वॉशिंगटन पोस्ट की रिपोर्ट के बारे में आगाह कर दिया था। उन्होंने कहा कि अमेरिकी मीडिया केस से जुड़ी डीटेल्स के साथ जल्द ही एक आर्टिकल पब्लिश कर सकता है। यह सब वॉशिंगटन पोस्ट को बताए बिना किया गया।

कौन है RAW एजेंट विक्रम यादव
अमेरिकी मीडिया ने रिपोर्ट में बताया है कि विक्रम यादव एक पूर्व CRPF अधिकारी था। उसे RAW में जूनियर अफसर बनाने के बजाय इस अहम ऑपरेशन की जिम्मेदारी दी गई। यादव के पास ट्रेनिंग और स्किल्स की कमी थी।

इसी वजह से वो ऑपरेशन पूरा करने में कामयाब नहीं हो सका। भारत के एक पूर्व सुरक्षा अधिकारी के हवाले से बताया गया कि ऑपरेशन फेल होने के बाद विक्रम को वापस CRPF में ट्रांसफर कर दिया गया।

चार्जशीट में आया था निखिल गुप्ता का नाम
29 नवंबर 2023 को पन्नू पर हमले के मामले में न्यूयॉर्क पुलिस की चार्जशीट सामने आई थी। इसमें भारतीय नागरिक निखिल गुप्ता पर पन्नू की हत्या की साजिश का आरोप था। इसमें लिखा था कि निखिल गुप्ता को CC-1 (पूर्व CRPF अधिकारी) ने पन्नू की हत्या की प्लानिंग करने को कहा था।

न्यूयॉर्क पुलिस की चार्जशीट के मुताबिक, विक्रम यादव (CC-1) ने ही आतंकी पन्नू की हत्या की पूरी साजिश रची थी। विक्रम ने निखिल की पहचान एक और अंडरकवर अधिकारी से कराई, जिसने पन्नू का मर्डर करने की बात कही। इसके लिए करीब 83 लाख रुपए में डील हुई थी। हालांकि जिस व्यक्ति के साथ डील हुई थी, वो अमेरिकी सीक्रेट एजेंसी का अधिकारी निकला।

निखिल गुप्ता फिलहाल चेक रिपब्लिक की जेल में बंद है। अमेरिकी अधिकारियों का आरोप है कि पन्नू को मारने की साजिश में निखिल गुप्ता शामिल था। निखिल को 30 जून 2023 को अमेरिकी सरकार की रिक्वेस्ट पर चेक गणराज्य से गिरफ्तार किया गया था।

पन्नू मामले में कब, क्या हुआ, चार्जशीट के मुताबिक पूरी टाइमलाइन…

  • मई 2023: अमेरिकी प्रॉसिक्यूटर के मुताबिक एक भारतीय अधिकारी (विक्रम यादव) ने निखिल गुप्ता को हायर किया।
  • 29 मई: निखिल गुप्ता ने किसी ऐसे शख्स की तलाश शुरू की जो पन्नू को मार सके। हालांकि, जिसे पन्नू को मारने के लिए हायर किया गया वो अमेरिका का अंडर कवर एजेंट निकला। कुछ हफ्तों तक निखिल गुप्ता ने इस अंडर कवर एजेंट से पन्नू को मारने के तरीके और कीमत पर चर्चा की।
  • 9 जून: गुप्ता ने पन्नू को मारने के लिए हायर किए गए हिटमैन को एक शख्स के जरिए 15 हजार डॉलर (12 लाख 49 हजार रुपए) का कैश भिजवाया। ये हत्या के लिए एडवांस पेमेंट थी।
  • 11 जून: भारत के अधिकारी ने गुप्ता को कहा कि पन्नू को अभी नहीं मरवा सकते हैं। दरअसल, जून में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिका के दौरे पर गए थे। गुप्ता ने भी फोन पर कहा था कि 10 दिनों तक कुछ नहीं किया जा सकता है, नहीं तो प्रदर्शन शुरू हुए जाएंगे।
  • 12 जून से 14 जून: गुप्ता ने फोन पर अपने साथी को कनाडा में किसी बड़े टारगेट के बारे में बताया। उसने कहा कि वो बाद में उसकी डीटेल्स शेयर करेगा।
  • 18 जून: कुछ लोग कनाडा में आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या कर देते हैं। कुछ ही महीनों बाद कनाडा इस हत्या का आरोप भारत पर लगाता है।
  • 19 जून: गुप्ता निज्जर की हत्या का वीडियो अमेरिका में पन्नू की हत्या के लिए हायर किए हिटमैन को भेजता है। वो लिखता है- ये अच्छी खबर है, अब इंतजार करने की जरूरत नहीं है।
  • 24 जून से 29 जून: गुप्ता ने पन्नू का मारने का प्लान आगे बढ़वाया। पन्नू की निगरानी शुरू हुई।
  • 30 जून: गुप्ता भारत से चेक रिपब्लिक गया, जहां अमेरिका के कहने पर उसे हिरासत में ले लिया गया।

Topics

Google News
error: Content is protected !!