National News

Solar Eclipse 2024: सूर्य ग्रहण पर अंतरिक्ष में दिखेगा ‘शैतान’, 70 साल में पहली बार होने जा रही यह अनोखी घटना , जाने हर 54 साल बाद आने वाला सूर्य ग्रहण कब दिखेगा इस से पहले ये 1970 में दिखा और अब 2078 में दिखेगा ! पढ़े ख़बर

TIN NETWORK
TIN NETWORK

Solar Eclipse 2024: सूर्य ग्रहण पर अंतरिक्ष में दिखेगा ‘शैतान’, 70 साल में पहली बार होने जा रही यह अनोखी घटना

Solar Eclipse 2024: साल 2024 का पहला सूर्य ग्रहण 8 अप्रैल को लगने जा रहा है। इस खगोलीय घटना पर दुनिया भर के खगोलविदों की नजर है। यह सूर्य ग्रहण कई वजहों से बेहद खास होने वाला है। 50 सालों बाद यह सबसे लंबा सूर्य ग्रहण होगा। यह ग्रहण करीब आठ मिनट का होगा, क्योंकि इस दौरान चंद्रमा बेहद नजदीक होगा। 

सूर्य ग्रहण के दौरान धरती के नजदीक मौजूद बृहस्पति और शुक्र ग्रहों को सीधा देखा जा सकेगा, लेकिन इस दौरान एक अनोखी खगोलीय घटना होने जा रही है। ग्रहण के दौरान शैतान धूमकेतु भी नजर आने वाला है, जिसे लेकर वैज्ञानिकों में सबसे अधिक दिलचस्पी है। खगोलविदों ने कहा कि 8 अप्रैल को आग के गोले के रूप में चल रहा यह शैतान धूमकेतु सीधी आंखों से देखा जा सकता है। 

8 अप्रैल 2024 को लगने वाला सूर्य ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा। यह ग्रहण पश्चिमी यूरोप पेसिफिक, अटलांटिक, आर्कटिक मेक्सिको, उत्तरी अमेरिका, मध्य अमेरिका, दक्षिण अमेरिका के उत्तरी भाग, कनाडा, इंग्लैंड के उत्तर पश्चिम क्षेत्र और आयरलैंड में दिखाई देगा।

ऐसा दिखता है धूमकेतु

आधिकारिक तौर पर इस धूमकेतु का नाम पी12 है। यह किसी शैतान की तरह नजर आता है, जिसकी वजह से इसको शैतान धूमकेतु नाम दिया गया है। बीते साल इसमें एक धमाका हुआ था, जिसके बाद इसमें गैस और बर्फ के दो निशान बन गए थे और यह शैतान की सींग की तरह दिखते हैं। नासा के मुताबिक, 8 अप्रैल 2024 को पूर्ण सूर्य ग्रहण के दौरान शैतान धूमकेतु को देखा जा सकता है। 1954 के बाद पहली बार यह धूमकेतु धरती के इतने नजदीक से गुजरेगा। इसके बाद अब इसे कम से कम 2095 तक नहीं देखा जा सकेगा। 

यह धूमकेतु एवरेस्ट पर्वत से तीन गुना बड़ा है और धरती की तरफ बढ़ रहा है। फिलहाल इस शैतान धूमकेतु को उत्तरी गोलार्ध से दूरबीन से देखा जा सकता है। वैज्ञानिकों ने उम्मीद जताई है कि सूर्यग्रहण के दौरान सूर्य के पास होने की वजह से इसे नंगी आंखों से भी देखा जा सकता है। यह धूमकेतु आंतरिक सौर मंडल से होकर गुजरता है और यह अप्रैल के मध्य में सूर्य के सबसे निकटतम बिंदु पर होता है।

जानिए क्या होते हैं धूमकेतु?

दरअसल, आम तौर पर धूमकेतु धूल, गैस और बर्फ के विशाल गोले हैं। यह गैस के चमकीले बादलों से घिरे होते हैं, जिन्हें कोमा कहा जाता है। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के मुताबिक, यह सौर मंडल के निर्माण के दौरान जमा अवशेष हैं। यह पिंड बहुत विशालकाय भी हो सकते हैं। सूरज की रोशनी और सौर विकिरण से धूमकेतु का कोर गर्म हो जाता है, जिसके कारण कभी-कभी इसमें विस्फोट हो जाता है। 

शैतान धूमकेतु को शाम को उत्तरी गोलार्ध से पश्चिम-उत्तर क्षितिज की तरफ से दूरबीन से देखा जा सकता है। अप्रैल के आखिरी तक इसके देखे जाने की उम्मीद है, लेकिन आसमान साफ होने पर अंधेरे में मई तक भी देखा जा सकता है। 

आने वाले अगले महीने में एक दुर्लभ खगोलीय घटना होने वाली है. बता दें 8 अप्रैल 2024 को पूर्ण सूर्य ग्रहण (Surya Grahan 2024) लगने वाला है. यह अपनी विशेषताओं के चलते खगोलविदों के लिए बेहद खास हो गया है. वैज्ञानिकों के अनुसार 2024 का पूर्ण सूर्य ग्रहण (Total solar eclipse 2024) पिछले 50 वर्षों का सबसे लंबा सूर्य ग्रहण होगा. पूर्ण सूर्य ग्रहण एक दुर्लभ खगोलीय घटना है. इस तरह की घटनाएं कभी-कभी होती हैं. जब पूर्ण सूर्य ग्रहण (surya grahan) की स्थिति होती है, तो आसमान में कुछ देर के लिए अंधेरा छा जाता है. ग्रहण से एक दिन पहले ही चंद्रमा अपने निकटतम बिंदु पर पृथ्वी के करीब आएगा. दोनों के बीच दूरी 3.60 लाख किलोमीटर रह जाएगी.

जब चंद्रमा पृथ्वी और सूर्य के बीच एक पूर्ण संरेखण बनाते हुए गुजरता है तो उसे पूर्ण सूर्य ग्रहण कहते है. इस दौरान चंद्रमा सूर्य को पूरी तरह से ढक लेता है. जिससे सूर्य की किरणें पृथ्वी तक नहीं पहुंच पाती हैं. ऐसा कुछ समय के लिए ही होता है. ग्रहण के दिन पृथ्वी और चंद्रमा की सूर्य से औसत दूरी लगभग 15 करोड़ किलोमीटर होगी. यह पिछले 50 सालों का सबसे लंबा सूर्य ग्रहण होगा. पूर्ण सूर्य ग्रहण का ऐसा नजारा 50 साल पहले देखने को मिला था. अब ऐसा दुर्लभ संयोग इस साल दोबारा देख सकते हैं. 8 अप्रैल को लगने वाला सूर्य ग्रहण साल का सबसे लंबा सूर्य ग्रहण होने की उम्मीद जताई जा रही है. यह पूर्ण सूर्य ग्रहण करीब 7.5 मिनट तक चलेगा. यह दोपहर 2:14 से शुरू होकर 2:22 तक चलेगा. पिछली बार साल 2017 में सूर्य ग्रहण लगा था. लेकिन साल 2017 का सूर्य ग्रहण इस बार के सूर्य ग्रहण के मुकाबले काफी अलग है.

पूर्ण सूर्य ग्रहण कहां दिखाई देगा

 2024 का यह पहला सूर्य ग्रहण (solar eclipse 2024) अमेरिका में दिखाई देगा. नासा के मुताबिक, यह शानदार खगोलीय घटना पूरे उत्तरी अमेरिकी महाद्वीप में दिखाई देगी. ये सबसे पहले मैक्सिको के प्रशांत तट पर सुबह 11.07 पर दिखेगा. अमेरिका,कनाडा और मैक्सिको में सूरज को काला होते हुए देख सकेंगे. घनी आबादी वाला क्षेत्र होने के कारण लाखों लोग इस ग्रहण को देख सकते हैं. यह सूर्य ग्रहण कनाडा, मैक्सिको, उत्तरी अमेरिका के कुछ हिस्सों में और संयुक्त राज्य अमेरिका में दिखाई देगा.


2150 तक नहीं देखा जा सकेगा ऐसा ग्रहण

एक्सपर्ट्स के मुताबिक प्रशांत महासागर के ऊपर 2150 तक ऐसा दोबारा नहीं देखा जा सकेगा (surya grahan 2024 in india date and time). इस पूर्ण सूर्य ग्रहण को मैक्सिको, अमेरिका और कनाडा के कुछ हिस्सों में रहने वाले लोग अनुभव कर सकेंगे. मोंटाना, नॉर्थ डकोटा और साउथ डकोटा में इसे नग्न आंखों से साफ देखा जा सकेगा. हालांकि, ग्रहण को देखने के लिए एक्सपर्ट कुछ थोड़े समय को छोड़कर विशेष चश्मे के उपयोग की सलाह देते हैं.

About the author

THE INTERNAL NEWS

Add Comment

Click here to post a comment

CommentLuv badge

Topics

Translate:

Google News
Translate »
error: Content is protected !!